जल्द ही भारतीय बाज़ार में आने वाले हैं 2000 से 2500 की कीमत वाले स्मार्टफोन

आज के दौर में जब भारत विकाशसील देशों की कतार में सबसे आगे है और जल्द ही महा शक्ति बनने की राह पर अग्रणी है| भारत की तरक्की में तकनीक का बड़ा योगदान है जब से देश में भाजपा की सरकार बनी है तब से कई क्रांतिकारी बदलाव हुए हैं| हाल ही के दिनों में माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने नोटबंदी जैसा साहसिक कदम उठाया और हिन्दुस्तान की जनता ने उनके इस साहसिक कदम का पूरे जोर शोर से समर्थन भी किया| इस समर्थन के फल स्वरुप माननीय प्रधानमन्त्री जी ने भारतवासियों को सस्ते घर, किसानो की 60 दिनों के ब्याज की माफ़ी, गर्भवती महिलाओं को 6000 रूपए की आर्थिक मदद जैसी कई सौगात भी दी|

मोदीजी ने कहा की जो पैसा वापस जमा हुआ है और इससे देश की अर्थव्यवस्था को जितना फायदा हुआ है उतना ही फायदा देशवासियों को भी होगा| इससे हमारी अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी और भारत के विश्वगुरु बनने की राह और आसान हो जायेगी| मोदी जी ने ये भी कहा की हम दुसरे देशों की तरह कैशलेस इकॉनमी को बढ़ाना चाहते है जिससे की कालाबाजारी और भ्रष्टाचार पर रोक लगाने में आसानी हो|

इसी क्रम में नया कदम उठाते हुए माननीय प्रधानमन्त्री जी ने ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगो को ध्यान में रखते हुए डिज़िटल माध्यमों के विस्तार को योजना बने है| कई स्वयं सहायता समूहों ने भी मोदी जी के इस सपने को साकार करने की मुहीम छेड़ रखी है| इन समूह के कई युवा कार्यकर्ताओं ने ग्रामीण क्षेत्रों के भोले भाले लोगों को डिज़िटल लेन देन सिखाने का बीड़ा उठा रखा है|

वही हमारी सरकार भी पुरजोर कोशिश कर रही है की सारे ग्रामीणों को डिज़िटल लेन देन के प्रति जागरूक कर सकें और सारे संसाधन मुहैया करा सके| सूत्रों के अनुसार हाल ही में माइक्रोमैक्स, लावा, इंटेक्स और कार्बन जैसे देश के बड़े मोबाइल निर्माता कंपनियों के साथ बैठक की जिसका उद्देश्य देश के कोने कोने के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों तक स्मार्टफोन पहुंचाया जा सके| देखा गया है की ग्रामीण क्षेत्रों के लोग स्मार्टफोन का कम इस्तेमाल करते है माना जा रहा है की आज कल आने वाले स्मार्टफोन महंगे होने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों के लोग इन्हें कम खरीदते हैं|

सूत्रों के मुताबिक़ इस मीटिंग का प्रमुख उद्देश्य सस्ते स्मार्टफोन का निर्माण था मीटिंग में प्रवक्ताओं ने जोर देकर कहा की ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सस्ते स्मार्टफोन का निर्माण शुरू किया जाये जिसकी कीमत 2000 से 2500 रूपए के बीच होनी चाहिए| सस्ता होने की वजह से ज्यादा से ज्यादा लोग स्मार्टफोन खरीदेंगे और स्मार्टफोन के इस्तेमाल से डिज़िटल लेन देन को बढ़ावा मिलेगा|भारत को कैशलेस बनाने की मुहीम की सफलता इस बात पर निर्भर करती है की कब हमारे ग्रामीण भाइयों तक स्मार्टफोन पहुँच सकेंगे| सूत्रों की माने तो जल्द ही बाज़ार में सस्ते स्मार्टफोन उपलब्ध होंगे क्योंकि इन कंपनियों ने सस्ते स्मार्टफोन बनाने के लिए हामी भर दी है|

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here