जो भी सदस्य आरएसएस शाखा में स्वयं की इच्छा से आता है, वह “स्वयंसेवक” कहलाता हैं

शाखा किसी मैदान या खुली जगह पर एक घंटे की लगती है। शाखा में व्यायाम, खेल, सूर्य नमस्कार, समता (परेड), गीत और प्रार्थना होती है। सामान्यतः शाखा प्रतिदिन एक घंटे…

बात 1998 की है जब चुनावों में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी

बात 1998 की है। लोकसभा चुनावों में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी और राजग सबसे बड़ा गठबंधन बन कर उभरा था। अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री नियुक्त किये गये थे। संसद में…

कुंभ मेले का इतिहास – Kumbh Mele ka Itihaas

कुंभ मेले का इतिहास कम से कम 850 साल पुराना है। माना जाता है कि आदि शंकराचार्य ने इसकी शुरुआत की थी, लेकिन कुछ कथाओं के अनुसार कुंभ की शुरुआत…

किसने दिया था भारत को ‘सोने की चिड़िया’ का ख़िताब ?

अगर हम भारत के इतिहास के बारे में बात करें तो सबसे पहले अंग्रेज़ो की गुलामी का ही प्रसंग सुनने को मिलता है| परन्तु हम बात कर रहे हैं उस…

हैरान कर देने वाले कुछ हिन्दू धर्म के मंदिर

इतिहासकारों का कहना है कि वैदिक काल में मंदिर नहीं हुआ करते थे| मूर्ति पूजा वेदिक काल के अंत में प्रचलित हुई है|  सभी धर्म हिन्दू सनातन धर्म से ही…

रामेश्वरम मंदिर का इतिहास

हर हिन्दू अपने जीवन में एक बार चार धाम की यात्रा करने का अवश्य सोचता है ताकि उसकी जीवन यात्रा सफल हो जाए| चार धाम की यात्रा सबसे पहले पूर्व…

हिंदू शब्द की उत्पत्ति का रहस्य

हिन्दू धर्म को सनातन, वैदिक या आर्य धर्म भी कहते हैं। हिंदू और जैन धर्म की उत्पत्ति पूर्व आर्यों की अवधारणा में है जो ४५०० ई.पू. मध्य एशिया से हिमालय…

खुद पर विश्वास हो तो हम कुछ भी कर सकते हैं

इंसान एक ऐसा जीव है जिसने समुद्र का सीना चीर कर उसपर पुल बनाया पहाड़ों को चीर कर रास्ता बनाया पर क्या आपने कभी सोचा है की ये असम्भव से…

मंथानी – भजन के गांव के खंडहर | Manthani – Ruins of the Village of Hymns

मंथानी में एक बार गौरवशाली गोमेतेश्वर मंदिर के चुप खंडहरों की बुढ़ापे वाली दीवारें और क्रिप्पर सजे हुए मूर्तियां आपको ऐसा महसूस कर सकती हैं कि आपको सीधे इंडियाना जोन्स…

अप्रैल फूल कहने से पहले जान ले इन बातों को वर्ना पछताना पड़ेगा

अप्रैल फूल” किसी को कहने से पहले इसकी वास्तविक सत्यता जरुर जान लें कि पावन महीने की शुरुआत को मूर्खता दिवस कह रहे हो !!पता भी है क्यों कहते है अप्रैल फूल (अप्रैल फूल का…

देवी ब्रम्ह्चारिणी की कथा एवं उनके स्वरुप के बारे में जाने

नवरात्रों के दौरान देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है हर दिन देवी के अलग अलग स्वरुप को पूजा जाता है| नवरात्रों में द्वितीय अर्थात दुसरा दिन…

इस गाँव में पूजा जाता है कंस को

कंस के बारे में तो आप सभी को ज्ञात ही है। कंस श्री कृष्ण के मामा थे। श्री कृष्ण ने कंस को मारकर सभी मथुरा वासियों को कंस के अत्याचारों से मुक्त…