7 लोकप्रिय व्यक्ति और उनके असाधारण व्यक्तित्व जिनको जान के आप दांग रह जाएंगे

इंसान इस धरती का सबसे रहस्यमय व विचित प्राणी है. जैसे ही हमें लगता है की हमें किसी विख्यात इंसान के बारे में सब कुछ अच्छे से पता है तो,…

सावधान! गंगा से जुडी एक ऐसी भविष्यवाणी जो उड़ा देगी आपके होश!

हिन्दू धर्म और प्रकृत्ति के बीच एक ऐसा संबंध है जिसे किसी भी रूप में नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। प्रकृत्ति की हर चीज चाहे वो मेघ हो या बारिश,…

श्री हनुमान चालीसा और उसका सम्पूर्ण अर्थ

दोहा 1 : श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि | बरनऊँ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि || अर्थ: “शरीर गुरु महाराज के चरण कमलों की…

ॐ : ओउम् तीन अक्षरों से बना है।

ॐ  उच्चारण के 11 शारीरिक लाभ : ॐ : ओउम् तीन अक्षरों से बना है। अ उ म् । “अ” का अर्थ है उत्पन्न होना, “उ” का तात्पर्य है उठना,…

वीर सावरकर ने हिन्दुत्व और हिन्दूशब्दों की एक परिभाषा दी थी जो हिन्दुत्ववादियों के लिये बहुत महत्त्वपूर्ण है

हिन्दुत्व हिन्दू धर्म के अनुयायियों को एक और अकेले राष्ट्र में देखने की अवधारणा है। हिन्दुत्ववादियों के अनुसार हिन्दुत्व कोई उपासना पद्धति नहीं, बल्कि हिन्दू लोगों द्वारा बना एक राष्ट्र…

शाखा से निकलने वाला सामान्य स्वयंसेवक

शाखा से निकलने वाला सामान्य स्वयंसेवक जब राष्ट्र के सर्वोच्च पद पर आसीन होकर राष्ट्रहित में कोई निर्णय लेता है ! उसका इतनी सहजता से प्रबंधन करता है तो उसमें…

हिन्दू एक संस्कृति है, सभ्यता है – सम्प्रदाय नहीं

एक बार अकबर बीरबल हमेशा की तरह टहलने जा रहे थे! रास्ते में एक तुलसी का झाड दिखा मंत्री बीरबल ने झुक कर प्रणाम किया। अकबर ने पूछा कौन हे ये…

Karwa Chauth

करवा चौथ : पूजा विधि और व्रत कथा

कार्तिक कृष्ण चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत किया जाता है। हिंदू धर्म में सुहागिन महिलाओं के लिए इस व्रत का विशेष महत्व है। कई संप्रदायों में कुवांरी कन्याएं…

घर में कौन सा पेड़ लगाना है शुभ, कौन सा अशुभ?

कहते हैं घर में पेड़ लगाने से हरियाली आती है और घर में रहने वाले लोग हमेशा स्‍वस्‍थ्‍ा रहते हैं, लेकिन कई बार आपके लगाए पेड़ अच्‍छे परिणाम नहीं देते।…

जब अपने भक्त की पुकार पर एकाकार हुए राधा-कृष्ण

वृंदावन में श्री कृष्ण (बाँकेबिहारी जी) मंदिर में बिहारी जी की प्रतिमा का रंग काला है। इस प्रतिमा के बारे में यह प्रचलित है कि इस मंदिर में स्थित मूर्ती…

अपने माता-पिता से आपका व्यवहार कैसा है इसके पीछे का कारण जाने

पूर्व जन्मों के कर्मों से ही हमें इस जन्म में माता-पिता, भाई-बहन, पति-पत्नि, प्रेमी-प्रेमिका, मित्र-शत्रु, सगे-सम्बन्धी इत्यादि संसार के जितने भी रिश्ते नाते हैं, सब मिलते हैं। क्योंकि इन सबको…

कुंभ मेले का इतिहास – Kumbh Mele ka Itihaas

कुंभ मेले का इतिहास कम से कम 850 साल पुराना है। माना जाता है कि आदि शंकराचार्य ने इसकी शुरुआत की थी, लेकिन कुछ कथाओं के अनुसार कुंभ की शुरुआत…