Home धर्म

धर्म

Hinduism is the World’s most sacred and the oldest religion. Hinduism is a way of life and is often called as the eternal law beyond human origins. Hindu practices include rituals such as worship and recitations, meditation, family-oriented rites of passage, annual festivals, and pilgrimages. Every Hindu should follow honesty, ahimsa, patience, forbearance, self-restraint, compassion….

देवी सीता को भी उठाने पड़े थे हथियार

एक बार भगवान श्री राम अपनी राजसभा में विराजमान थे| उसी समय वहां विभीषण का आगमन हुआ| विभीषण बहुत चिंतित और भयभीत लग रहे थे| सभा में पहुँच कर उन्होंने श्री राम को प्रणाम किया...

श्री राम ने दिया था अपने भक्त हनुमान को यह वरदान

पवन पुत्र हनुमान जी भगवान श्री राम के बहुत बड़े भक्त हैं| हनुमान जी की तरह श्री राम को भी अपने भक्त हनुमान से बहुत लगाव था| रामायण में इस बात का उल्लेख मिलता है...

इन बातों का ध्यान रखने से रह सकते हैं आप संकटो से दूर

क्या आप जानते हैं कि यदि आप हिन्दू यम और नियम के अनुसार अपना जीवन यापन करते तो जिंदगी में संकट नहीं आ सकते हैं| उपनिषद और गीता का बार - बार अध्य्यन करने से तथा...

देवी पार्वती ने भगवान शिव से कहा की उन्हें चाहिए अपना खुद का महल

एक बार की बात है देवी पार्वती जी का मन हुआ कि उनके पास भी एक महल होना चाहिए| उन्हें महसूस हुआ कि सभी देव अपने महलों में रहते है तो देवों के देव...

श्री राम की एक बहन भी थी शांता

श्री राम के पिता दशरथ अयोध्या के राजा थे| महाराज दशरथ की तीन रानियां थी - कौशल्या, कैकयी और सुमित्रा| भगवान श्री राम कौशल्या माता के पुत्र थे| अयोध्या के राजा दशरथ के चार पुत्र थे...

क्यों हुआ पृथ्वी पर राधा जी का जन्म

राधा जी और श्री कृष्ण का प्रेम इतना गहरा था कि आज भी सब राधा जी को श्री कृष्ण की आत्मा कहकर पुकारते हैं| राधा जी का जन्म भाद्रपद महीने की शुक्लपक्ष की अष्टमी को हुआ...

कौरवों के पैदा होने की कहानी

महाभारत का युद्ध पांडवो तथा कौरवों के मध्य हुआ था| पांडव पाण्डु के पुत्र थे और पांडव पांच भाई थे| पांडवो के जन्म की कथा से तो हम सब अवगत हैं| परन्तु बहुत कम लोग...

क्यों देवी पार्वती ने दिया शिव, विष्णु, नारद और कार्तिकेय को श्राप

एक बार भगवान शिव , विष्णु, नारद और कार्तिकेय ने देवी पार्वती के साथ एक छल किया| इस छल से देवी पार्वती को बहुत आघात पहुंचा और उन्होंने इन सबको श्राप दे दिया| आइए जानते...

श्री कृष्ण के परम् मित्र सुदामा को निर्धन होने का श्राप कैसे मिला

सुदामा जी श्री कृष्ण के परम् मित्र थे| परन्तु फिर भी वे गरीबी में जीवन व्यतीत कर रहे थे| अध्यात्मिक दृष्टिकोण से तो सुदामा जी जैसा कोई अमीर नहीं था| परन्तु यदि हम भौतिक दृष्टि से...

संकटमोचन हनुमानाष्टक – हनुमान जी करेंगे मुक्त है कष्ट से

हनुमान जी को भगवान शिव का अवतार माना जाता है। हनुमान जी के भक्त उन्हें संकटमोचन कह कर भी पुकारते हैं। क्योंकि वे अपने भक्तों के सभी कष्ट हर लेते हैं और उन्हें हर...

जब देवी जगदम्बा के क्रोध को संभालने के लिए भक्त ने किया अपने शीश...

बहुत समय पहले की बात है भोजपुर जो की अभी के समय में गोपालगंज के नाम से जाना जाता है| वहां हथुआ नामक स्थान पर राजा मननसिंह का राज था मननसिंह वैसे तो बड़ा...

इसलिए राधा का नाम लिया जाता है श्री कृष्ण से पहले – radha krishna...

जब भी श्री कृष्ण और राधा जी की बात होती है तो सबसे पहले राधा का नाम लिया जाता है| इनके भक्त इन्हे राधा कृष्ण कहकर पुकारते हैं| श्री कृष्ण से पहले राधा जी...

मरते समय यह ज्ञान की बातें बताई थी बालि ने अपने पुत्र अंगद को

रामायण में जब रावण देवी सीता का अपहरण करके लंका ले गया तो श्री राम तथा लक्ष्मण जी देवी सीता को ढूंढते हुए हनुमान जी से मिले| हनुमान जी ने श्री राम को सुग्रीव...

इंद्र देव की इन चालों से शकुनी की चाल हुई थी नाकामयाब

महाभारत में शकुनी मामा ने अपनी चतुराई से कई बार चौरस के खेल में पांडवो को हराया| जिसके परिणाम स्वरूप द्रोपदी का चीर हरण हुआ तथा पांडवो को पहले वनवास और फिर अज्ञातवास मिला| परन्तु...

स्कन्दपुराणोक्त श्री श्याम देव खाटू श्याम जी कथा

प्रेमियों, कौन हैं श्याम बाबा? किस कुल में उत्पन्न हुए? क्यों कलयुग के प्रधान देव कहलाये? उन्हें मोरवीनंदन क्यों कहा जाता है? ऐसे कई जिज्ञाषा भरे प्रश्न श्यामबाबा खाटूवाले के विषय में श्यामभक्तो के...

ऐसा क्या हुआ कि देवी पार्वती निगल गयी भगवान शिव को

एक बार देवी पार्वती भगवान शिव के साथ कैलाश पर्वत पर बैठी हुई थी| भगवान शिव कुछ देर देवी पार्वती से वार्तालाप करने के बाद अपनी तपस्या में लीन हो गए| भगवान शिव के तपस्या...