धर्मराज युधिष्ठिर को नरक के दर्शन करते हुए जाना पड़ा था स्वर्ग लोक

Like
धर्मराज युधिष्ठिर को नरक के दर्शन करते हुए जाना पड़ा था स्वर्ग लोक

युधिष्ठिर पाण्डु के पांचो पुत्रों में से सबसे बड़े थे| युधिष्ठिर को धर्मराज के नाम से भी जाना जाता है| युधिष्ठिर को उनके मानवीय गणों के कारण ही धर्मराज का दर्जा दिया गया है| युधिष्ठिर सत्यवादिता एवं धार्मिक आचरण के लिए विख्यात हैं| पांचो पांडवों में युधिष्ठिर ही केवल ऐसे थे जो सशरीर स्वर्ग गए थे| परन्तु एक पौराणिक कथा के अनुसार युधिष्ठिर को स्वर्ग जाने से पहले एक बार नरक के दर्शन भी करने पड़े थे|

loading...

महाभारत के युद्ध को समाप्त होने के कुछ सालों बाद ही विनाश लीला शुरू होने लगी थी| श्री कृष्ण ने भी मानव देह को त्याग दिया था और वापिस वैकुंठ में विराजमान हो गए थे| श्री कृष्ण के देह त्यागने के बाद पांडवों ने भी परलोक जाने का निश्चय किया| पांडवो ने अपना सारा राजपाट परीक्षित को सौंप दिया और परलोक जाने के उद्देश्य से हिमालय की ओर चल दिए| हिमालय पार करने के बाद जब पांडव स्वर्ग की ओर प्रस्थान करने लगे, तब युधिष्ठिर को छोड़कर सभी एक एक करके मार्ग में ही गिरने लगे| अंत में जब केवल युधिष्ठिर रह गए तो देवराज इंद्र वहां आये और युधिष्ठिर को अपने रथ में बैठा कर स्वर्ग की ओर ले गए|

स्वर्ग पहुँच कर युधिष्ठिर ने देखा कि उनके भाई और द्रोपदी वहां पर नहीं है| अपने भाईयों को वहां ना पाकर युधिष्ठिर चिंतित हो गए| उन्होंने वहां मौजूद देवताओं से कहा कि वह अपने भाईओं के पास जाना चाहते हैं| युधिष्ठिर की बात मान कर देवराज इंद्र ने उन्हें नरक के द्वार पर छोड़ दिया|

नरक के द्वार पर युधिष्ठिर को दर्द भरी आवाजें सुनाई दे रही थी| यह आवाजें जिनकी थी वह युधिष्ठिर को वहीं रुकने के लिए कह रहे थे| युधिष्श्ठिर ने उनसे उनका परिचय पूछा तो उन्होंने भीम, अर्जुन, नकुल, सहदेव व द्रोपदी के रूप में अपना परिचय दिया| यह सुनकर युद्धिष्ठिर ने देवदूत से कहा कि तुम देवताओं के पास वापिस लोट जायो| यदि मेरे यहां रहने से मेरे भाईओं और पत्नी को सुख मिलता है तो मैं यही उनके साथ रहूँगा| देवदूत युधिष्ठिर की बात मान कर चला गया और उसने युधिष्ठिर के नरक में रहने के निर्णय के बारे में देवराज इंद्र को बताया|

कुछ समय बाद देवराज इंद्र युधिष्ठिर से मिलने नरक पहुंचे| देवताओं के आगमन से सुंगंधित हवा बहने लगी और मार्ग पर प्रकाश छा गया| देवराज इंद्र ने युधिष्ठिर से मिलकर उन्हें बताया कि महाभारत के युद्ध के समय उन्होंने छल से गुरु द्रोणाचार्य को उनके पुत्र अश्व्थामा की मृत्यु का यकीन दिलवाया था| इसी कारण तुम्हे छल से नरक के दर्शन करने पड़े| तुम्हारे भाई और पत्नी सभी स्वर्ग में ही तुम्हारी प्रतीक्षा कर रहे हैं|

loading...

You might like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *