Home कहानियाँ

कहानियाँ

बालक ध्रुव कैसे बना एक तारा – इसके पीछे की कथा क्या है?

राजा उत्तानपाद के पिता स्वयंभुव मनु और माता शतरुपा थी। उत्तानपाद की दो पत्नियां थीं सुनीति और सुरुचि। राजा उत्तानपाद को अपनी पत्नियों से दो पुत्र प्राप्त हुए। राजा को सुनीति से ध्रुव और सुरुचि से उत्तम नाम के पुत्रों...

खुद पर विश्वास हो तो हम कुछ भी कर सकते हैं

इंसान एक ऐसा जीव है जिसने समुद्र का सीना चीर कर उसपर पुल बनाया पहाड़ों को चीर कर रास्ता बनाया पर क्या आपने कभी सोचा है की ये असम्भव से लगने वाले कार्य कैसे...

त्रिशंकु स्वर्ग क्या है और इसे किसने बनाया

आज कल के समय में मनुष्य अपनी ही बनायीं दुनिया में मस्त रहता है सभी सुख और दुःख की अनुभूति होते हुए भी वह अपने ही मन की करता है| कुछ भी हो चाहे...

सम्पूर्ण सच को जाने बिना किसी के भी व्यवहार के बारे में निर्णय नहीं...

एक बार एक 23 साल का लड़का अपने पिता के साथ रेलगाड़ी का सफर कर रहा था। वह खिड़की से बाहर का नजारा देख कर बहुत खुश हो रहा था। ख़ुशी से उत्त्साहित हो कर वह चिल्लाया...

जीवन में थोडा फासला भी बहुत जरूरी है

कोई आदमी दुख में है तो तुम कहते हो कि इतने परेशान क्यों होते हो! यह सब चलता रहता है; संसार है! अपने को जरा दूर रखो। और यही दुख तुम पर आयेगा तो...

क्या होता जा रहा है हमें, पैसों के पीछे हम अपने माता पिता तक...

विश्वास साहब अपने आपको भाग्यशाली मानते थे। कारण यह था कि उनके दोनो पुत्र आई.आई.टी. करने के बाद लगभग एक करोड़ रुपये का वेतन अमेरिका में प्राप्त कर रहे थे। विश्वास साहब जब सेवा...

महाराजा कौशिक के महर्षि विश्वामित्र बनने की कथा

आज हम बात करेंगे महर्षि विश्वामित्र के बारे में शायद ही आपको पता होगा की महर्षि विश्वामित्र का असली नाम महाराजा कौशिक था और वह किसी ऋषि या ब्राम्हण की संतान न होकर एक...

ज्ञान का कोई मोल नहीं यह अनमोल है

एक युवक ने विवाह के दो साल बाद परदेस जाकर व्यापार करने की इच्छा पिता से कही पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार करने चला गया। परदेश में मेहनत से बहुत...

कुछ कड़वा बोलने से पहले ये याद रखें की….

एक गाँव में एक किसान रहता था। एक दिन उस किसान ने गुस्से में अपने पडोसी को भला बुरा कह दिया। परन्तु बाद में जब उसे अपनी गलती एहसास हुआ तो वह अपने गुरु के पास...

समझोता करें या परिस्थितियों से बाहर निकलने कि कोशिश करें? सीखें मेंढक से

अगर कोई मेंढक गर्म पानी में मर जाए तो हम में से ज्यादातर लोगों को यही लगता है कि उसकी मृत्यु गर्म पानी से हुई है। परन्तु सत्य कुछ और है। अगर एक मेंढक को...

युधिष्ठिर के यज्ञ से श्रेष्ठ था ब्राह्मण का यज्ञ

एक बार महाराज युधिष्ठिर ने एक यज्ञ करवाया। यज्ञ पूर्ण होने के बाद ऋषियों की सभा एकत्रित हुई। सभा में सभी यज्ञ की चर्चा करने लगे। सभी इस यज्ञ की तारीफों के पुल बाँध रहे थे।...

कौन जाएगा स्वर्ग और कौन नर्क

एक समय कि बात है एक गाँव में एक ब्राह्मण और वैश्या एक दूसरे के पड़ोस में रहते थे। ब्राह्मण पूरा दिन भगवान कि पूजा पाठ में लगा रहता था। वह सारा दिन अनंत कर्मकांड करने...