कहानियाँ

प्रकृति का अदभुत करिश्मा: एक ऐसा शिवलिंग जो बढ़ता है दिन पर दिन

शिव जी को देवों के देव अर्थात् महादेव भी कहते हैं| इन्हें महादेव, भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है| शिवलिंग, भगवान शिव का ही स्वरुप है| इन्हे लिंग कहा जाने का कारण  शून्य,...

आखिर क्यों भगवान शिव के इस एक हाथ से बने मंदिर में नहीं की...

हमेशा सुनने को मिलता है कि अगर भगवान शिव की पूजा अर्चना सच्चे मन से की जाए तो वे हमारे कष्टों का निवारण करते है तथा हमारी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते है| परन्तु भारत देश में...

कुल्लू घाटी से कैसे जुड़ें हैं महादेव

कुल्लू भारत के हिमाचल प्रदेश में स्थित एक शहर है। कुल्‍लू का नाम पहले कुलंथपीठ था, इसका अर्थ है रहने योग्‍य दुनिया का अंत। कुल्‍लू घाटी भारत में देवताओं की घाटी रही है। मगर इसका इतिहास काफी हद तक...

स्वाहा- जिसके बिना कोई भी हवन सफल नहीं

हमने अक्सर देखा है की किसी भी शुभ कार्य पर हवन या यज्ञ किया जाता है| हवन के दौरान जितनी बार आहुति डलती है उतनी बार स्वाहा का उच्चारण होता है| आज हम जानेंगे...

क्या है कुम्भ मेले का इतिहास? क्यों आता है ये 12 वर्षों के बाद?

कुम्भ मेले के बारे में अक्सर लोग यह जानते हैं कि यह मेला हर 12 वर्षों में एक बार लगता है परन्तु ऐसा क्यों होता है, यह काफी कम लोग ही जानतें हैं| आज हम कुम्भ...

क्या अर्जुन और श्री कृष्ण के बीच भी युद्ध हुआ था?

युद्ध में जो कृष्ण अर्जुन के सारथि बन कर उसके साथ हमेशा खड़े हुए, क्या उन्ही श्रीकृष्ण ने अपने प्रिय अर्जुन के साथ युद्ध किया था? जिस अर्जुन ने श्रीकृष्ण से महाभारत के दौरान...

आखिर ऐसा क्या हुआ की श्री कृष्ण को करना पड़ा अपने ही हाथों पर...

महाभारत के मुख्य पात्रों में से एक है कर्ण, जो की महाभारत के युद्ध में अपने भाईओं के विरुद्ध लड़ा था| कर्ण की माँ कुंती और पिता सूर्य थे, परन्तु उनका पालन पोषण एक रथ...

जानिए कलंकित चतुर्थी के बारे में

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को एक तरफ गणेश जी का जन्मदिन बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है तो दूसरी तरफ इसे कलंकित चतुर्थी भी कहा जाता है| गणेश जी तो...

क्या आप जानते है रेवती का विवाह बलराम जी के साथ कैसे हुआ

मान्यता अनुसार सतयुग में महाराज रैवतक पृथ्वी सम्राट थे जिनकी एक पुत्री थी राजकुमारी रेवती, जिसे उसके पिता ने हर प्रकार की शिक्षा प्राप्त कराई थी| रेवती के जवान होने पर महाराज ने पृथ्वी पर उसके...

क्या आप जानते है ‘कन्याकुमारी’ जगह का नाम कैसे पड़ा? जानिए इसके पीछे का...

कन्याकुमारी भारत के तमिलनाडु में दक्षिण तट पर स्थित एक शहर है| एक ऐसा स्थान जहाँ पर हिन्द महासागर, बंगाल की खाड़ी और अरब सागर मिलते हैं| कन्याकुमारी कला, संस्कृति, सभ्यता का प्रतीक रहा है| कन्याकुमारी यात्रियों के भ्रमण करने के...

समुद्र मंथन की कथा और उसके पीछे छिपा जीवन का उपदेश

हिन्दू धर्म में कई असुरों और देवताओं की कथाएं हैं| लेकिन यह कथा तब की है जब देवताओं ने धरती का निर्माण अथवा धरती को रहने लायक स्थान बनाने का सोचा| चलिए जानते हैं समुद्र...

जो होता है अच्छे के लिए ही होता है

एक अमीर ईन्सान था उसने समुद्र मे अकेले घूमने के लिए एक नाव बनवाई। छुट्टी के दिन वह नाव लेकर समुद्र की सैर करने निकला। अभी वह आधे समुद्र तक पहुंचा ही था कि...

अगर आप भी अपने पिता से प्यार करते हैं तो अवश्य पढ़ें

पापा पापा मुझे चोट लग गई खून आ रहा है 5 साल के बच्चे के मुँह से सुनना था कि पापा सब कुछ छोड़ छाड़ कर गोदी में उठाकर एक किलो मीटर की दूरी...

आखिर क्यों राजा दशरथ को नहीं भेजा गया आमंत्रण सीता स्वयंवर के लिए ?

ऐसा क्या हुआ की राजा जनक ने दूर-दूर तक के राज्यों में अपनी पुत्री सीता के स्वयंवर का आमंत्रण भेजा परन्तु अयोध्या नरेश महाराजा दशरथ को इस स्वयंवर का न्योता नहीं भेजा गया? राजा जनक...

जानिए माता बगलामुखी की कथा

देवी बगलामुखी से जुडी एक कथा बहुत प्रचलित है जिसके अनुसार एक बार सतयुग में महाविनाश उत्पन्न करने वाला तूफान आया, जिससे सारी सृष्टि नष्ट होने लगी| इससे चारों ओर हाहाकार मच गया और अनेकों लोक संकट में...

हनुमान जी की माता अंजना कैसे बनीं अप्सरा से वानर?

हिन्दू धर्म में श्रापों और वरदानों का सिलसिला बबुत ही आम बात है| हुनमान जी को श्राप था कि वे जब उन्हें उनकी शक्तियों का सबसे अधिक ज़रूरत होगी तब वे अपनी शक्तियां भूल जायेंगे| ना...