Home Blog

क्या होता जा रहा है हमें, पैसों के पीछे हम अपने माता पिता तक...

विश्वास साहब अपने आपको भाग्यशाली मानते थे। कारण यह था कि उनके दोनो पुत्र आई.आई.टी. करने के बाद लगभग एक करोड़ रुपये का वेतन अमेरिका में प्राप्त कर रहे थे। विश्वास साहब जब सेवा...

महाराजा कौशिक के महर्षि विश्वामित्र बनने की कथा

आज हम बात करेंगे महर्षि विश्वामित्र के बारे में शायद ही आपको पता होगा की महर्षि विश्वामित्र का असली नाम महाराजा कौशिक था और वह किसी ऋषि या ब्राम्हण की संतान न होकर एक...

रोजमर्रा की आदतों में अवश्य शामिल करें ये काम वरना होगा बड़ा नुक्सान

ज्योतिष व शास्त्रो के अनुसार नौ आदते आपके जीवन में अवशय होनी चाईए – पढ़े और सभी को बताए घरेलू उपचार अगर आपको कहीं पर भी थूकने की आदत है तो यह निश्चित है कि आपको...

महाभारत के ऐसे श्राप जिनका प्रभाव आज भी बना हुआ है

पौराणिक कथायों में हमने अनेक बार श्रापों के बारे में सुना अथवा पढ़ा है। परन्तु क्या आप जानते हैं महाभारत में ऐसे श्रापों का वर्णन है। जिनका असर आज भी धरती पर बना हुआ है। जब...

ज्ञान का कोई मोल नहीं यह अनमोल है

एक युवक ने विवाह के दो साल बाद परदेस जाकर व्यापार करने की इच्छा पिता से कही| पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार करने चला...

सुबह सुबह इन चीजों को देखने भर से आपका दिन शुभ रहेगा

सुबह जब हमारी आँख खुलती है तो हम यही सोचते हैं कि हमारा आज का दिन शुभ जाये। परन्तु कई बार हमारी यह सोच सत्य में नही बदल पाती। परन्तु अगर हम कुछ बातों...

कुछ कड़वा बोलने से पहले ये याद रखें की….

एक गाँव में एक किसान रहता था। एक दिन उस किसान ने गुस्से में अपने पडोसी को भला बुरा कह दिया। परन्तु बाद में जब उसे अपनी गलती एहसास हुआ तो वह अपने गुरु के पास...

समझोता करें या परिस्थितियों से बाहर निकलने कि कोशिश करें? सीखें मेंढक से

अगर कोई मेंढक गर्म पानी में मर जाए तो हम में से ज्यादातर लोगों को यही लगता है कि उसकी मृत्यु गर्म पानी से हुई है। परन्तु सत्य कुछ और है। अगर एक मेंढक को...

युधिष्ठिर के यज्ञ से श्रेष्ठ था ब्राह्मण का यज्ञ

एक बार महाराज युधिष्ठिर ने एक यज्ञ करवाया। यज्ञ पूर्ण होने के बाद ऋषियों की सभा एकत्रित हुई। सभा में सभी यज्ञ की चर्चा करने लगे। सभी इस यज्ञ की तारीफों के पुल बाँध रहे थे।...

काकनमठ मंदिर – क्या शिव भगवान के इस मंदिर को भूतों ने बनाया था?

मुरैना के पास स्थित सिहोनिया या सिहुनिया कुशवाहों की राजधानी थी। इस साम्राज्य की स्थापना 11वीं शताब्दी में 1015 से 1035 के मध्य हुई थी। काकनमठ मंदिर का निर्माण राजा कीर्तिराज...

हथेली में यह न‌िशान होते हैं अकाल मृत्यु का सूचक

यदि हम अपनी हथेली देखें तो हमें उसमें बहुत से चिन्ह या आकर बनते दिखाई देते हैं। हमारी हथेली में दिखने वाले इन चिन्हों का अपना ही एक अर्थ होता है। इनमें से कुछ चिन्ह हमारे...

आर्थ‌क परेशानी को दूर करने में हैं सक्षम ऐसे दर्पण

घर में हर वस्तु का वास्तु के अनुसार होना अत्यंत आवश्यक है। वास्तु के अनुसार घर में सामान रखने से घर में सुख समृद्ध‌ि आती है। कहने को तो हम दर्पण केवल चेहरा देखने या...