हिन्दू धर्म के बारे में जानना चाहते हो तो पढ़ो यह किताबें

दुनिया में सैकड़ों धर्म हैं लेकिन सबसे ज़्यदा शांतिप्रिए धर्म शुरू से एक ही रहा है और वह है हिन्दू धर्म। हिन्दू धर्म की शुरुवात हिंदुस्तान से ही हुई थी. आपको यह जानकार हैरानी होगी के हिन्दू धर्म दुनिया का सबसे पुराना धर्म भी है.

हिन्दू धर्म को सनातन धर्म भी कहा जाता है. जानकार कहते हैं की सनातन धर्म तो इंसान ही नहीं देवी देवताओं के भी परे है. ज्ञानियों का तो यह भी कहना है की हिन्दू धर्म तो जीवन, संस्कृति और परंपरा का मिश्रण है. हिन्दू धर्म का कोई रचेता नहीं है, ऐसा माना जाता है.

हिन्दू धर्म हिंदुस्तान में नहीं बल्कि नेपाल, मॉरिशस, बाली और इंडोनेशिया में अपनाया गया है और ज़्यदातर आबादी इसी धर्म को मानती है इन देशों में.

आईये आज मैं आपको कुछ किताबों के बारे में बताता हूँ जिन्हे पढ़ने से आपको मन की शांति तो मिलेगी ही और साथ ही आपका हिन्दू धर्म के बारे में ज्ञान और बढ़ेगा।

What is Hinduism? A Guide for the Global Mind

यह किताब अंग्रेजी में है और इसको डेविड फरौली ने लिखी है. इस किताब में लेखक ने बताया है की किस तरह से हिन्दू धर्म को करोड़ों लोग मानते हैं. हिन्दू धर्म में योग तथा वेदों का बहुत अधिक महत्व है. हिन्दू धर्म में यह भी बताया गया है की सत्य केवल एक है परन्तु वहां तक पहुँचने के तरीके अलग अलग हैं.

हिन्दू धर्म के बारे में जानना चाहते हो तो पढ़ो यह किताबें

 

हिन्दुइस्म को मानने वाले तो बहुत हैं, लेकिन दुनिया में अभी भी इसको सही तरीके से समझा नहीं जा सका है. इसका कारण यह भी है क्योकि यह धर्म प्राचीन काल से चला आ रहा है और इसमें कई तरह की शिक्षाएं हैं.

अगर आप भी यह किताब पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें।

Riddles in Hinduism

रिडल्स इन हिन्दुइस्म, यह किताब बाबासाहेब बी. आर. आंबेडकर जी ने लिखी है और इस किताब के एडिटर हैं डॉ. सरेन्द्र अजनत।

हिन्दू धर्म के बारे में जानना चाहते हो तो पढ़ो यह किताबें

इस किताब में भी आपको हिन्दू धर्म के बारे में पता चलेगा आंबेडकर जी के नज़रिये से.

अगर आप भी यह किताब पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें।

तो दोस्तों यह दो किताबें आपको ज़रूर पढ़नी चाहिए हिन्दू धर्म को करीब से जानने के लिए. एक बात और, इन किताबों में जो कुछ भी लिखा है वह लेखक के अपने विचार हैं और आप उनके विचारों से कितना सहमत हैं यह आपके ऊपर निर्भर करता है.

अगर आपने भी यह किताबें पढ़ी हैं तो नीचे कमैंट्स में ज़रूर बताएं। धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here