भगवान हनुमान के जीवन के कुछ अनसुने सत्य जिन से आप अब तक थे अनजान

भगवान हनुमान के बारे में तो हम सभी जानते हैं। भगवान हनुमान श्री राम के भक्त थे। भगवान हनुमान को सबसे बुद्धिमान व बलवान माना जाता है। रामायण के प्रमुख पात्रों में से हनुमान भी एक थे। राम भक्त हनुमान को महाबली, संकटमोचन, अंजनी पुत्र, मारुति, बजरंगबली तथा पवन पुत्र आदि नामों से भी जाना जाता है। माना जाता है कि भगवान हनुमान अजर-अमर हैं।

आइए जानते है भगवान हनुमान के बारे में कुछ ऐसे अनसुने सत्य जो आपको आश्चर्यचकित कर देंगें।

शंकर का अवतार- बहुत कम लोग जानते हैं कि भगवान हनुमान जी अपनी माता के श्राप को हरने के लिए पैदा हुए थे। माता अंजनी को एक ऋषि द्वारा उनकी भक्ति भंग करने के कारण श्राप मिला था। माता अंजनी ने बालपन में एक वानर को तपस्या करते देखा और उन पर फल फेंकने शुरू कर दिये। जैसे ही तपस्वी वानर की तपस्या भंग हुई उन्होंने अपना साधु रूप धारण किया और क्रोध में माता अंजनी को श्राप दे दिया।  श्राप के अनुसार माता अंजनी को जैसे ही किसी से प्रेम होगा तो वो वानर का रूप ले लेंगी। श्राप से बचने का एक उपाय था कि जब माता अंजनी शिव के अवतार को जन्म देंगी तब उन्हें श्राप से मुक्ति मिल जाएगी। जब भगवान शिव ने माता अंजनी के पुत्र के रूप में यानी कि हनुमान जी के रूप में जन्म लिया तब माता अंजनी श्राप से मुक्त हो पायी।

केसरिया रूप- माता सीता भगवान श्री राम की लम्बी आयु के लिए अपनी मांग में सिंदूर लगाती हैं, जब यह बात हनुमान जी को पता चली तो उन्होंने केसरिया रूप धर लिया मतलब उन्होंने अपने पुरे शरीर पर सिंदूर लगा लिया। तभी से भगवान हनुमान  को सिंदूर चढ़ाया जाता है।

राम द्वारा राम भक्त को मौत की सजा- श्री राम के गुरु विश्वामित्र किसी कारणवश हनुमान जी से नाराज हो गए और उन्होंने श्री राम को हनुमान जी को मौत की सजा देने को कहा। श्री राम अपने गुरु के आदेश की अवहेलना नही कर सकते थे। इसलिए उन्होंने हनुमान जी को मौत की सजा सुनाई। परन्तु सजा के दौरान किये गए प्रहारों का हनुमान जी के ऊपर कोई असर ना हुआ। क्योंकि वह उस समय श्री राम का नाम जपते रहे।

हनुमान जी के भ्राता थे भीम- भीम हनुमान जी के ही भ्राता थे। जिस तरह हनुमान जी पवन पुत्र थे वैसे ही भीम भी पवन पुत्र थे।

108 नाम- भगवान हनुमान के संस्कृत में कुल 108 नाम हैं। उनके हर नाम के पीछे उनके जीवन के अध्यायों का सार है।

अशोक वाटिका तथा विभीषण का महल न जलाने का कारण- अशोक वाटिका में माता सीता को रखा गया था। इसलिए भगवान हनुमान ने अशोक वाटिका को आग नही लगाई। विभीषण के महल को ना जलाने का कारण उनके द्वार पर लगा तुलसी का पौधा तथा द्वार पर बने विष्णु जी के पावन चिह्न शंख, चक्र और गदा तथा राम नाम अंकित थे।

विभीषण की वकालत- जब विभीषण श्री राम के पास शरण के लिए आये तो सुग्रीव ने शत्रु का भाई होने के कारण उनके प्रति आशंका प्रकट की तथा उन्हें सजा देने की सलाह दी। परन्तु भगवान हनुमान ने विभीषण को शरण देने के लिए उनकी वकालत की और यह भी कहा कि जो एक बार विनीत भाव से मेरी शरण की याचना करता है और कहता है- ‘मैं तेरा हूं, उसे मैं अभयदान प्रदान कर देता हूँ। देवतायों के बाद धरती पर विभीषण ने ही सर्वप्रथम हनुमान जी की शरण ले कर उनकी स्तुति की थी।

कलयुग के अंत तक हनुमान जी का धरती पर निवास- हिन्दू पुराणों और ग्रन्थों के अनुसार भगवान हनुमान कलयुग के अंत तक धरती पर निवास करेंगे।

हनुमान जी के गुरु- हनुमान जी ने एक गुरु से शिक्षा नही ली बल्कि उन्होंने कई गुरुयों से शिक्षा ली थी जैसे कि नारद मुनि, सूर्यदेव तथा मातंग ऋषि।

हनुमान जी के ह्रदय में राम सीता- एक बार माता सीता ने प्रेम वश हनुमान जी को एक बहुत ही कीमती सोने का हार भेंट में देने की सोची। लेकिन हनुमान जी ने इसे लेने से इनकार कर दिया। इस बात से माता सीता नाराज हो गईं। तब हनुमान जी ने अपनी छाती चीर कर माता सीता को दिखाया। तब उनके ह्रदय में प्रभु राम और माता सीता की छवि नजर आयी। हनुमान जी ने कहा कि उनके लिए इससे ज्यादा कुछ और महत्वपूर्ण नहीं है।

क्या आपने पढ़ा?

श्रीमद भागवद गीता के अनुसार ये स्थितियां हमेशा दुः... हमरा जीवन ऐसी अनेक परिस्थितियों का सामना करता है जो हमें दुःख या सुख देकर जाती हैं| इनमें से कुछ परिस्थितियां ऐसी होती हैं जि...
आरोग्य के देवता : धन्वंतरि... भगवान विष्णु के 12वें अवतार धन्वंतरि को देवताओं का चिकित्सक यानि वैद्य माना जाता है| समुद्र मंथन के दौरान धन्वंतरि 14 रत्नों ...
वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर के दर्शन करके आप एक... बांके बिहारी मंदिर कृष्ण की नगरी वृन्दावन में स्थित है। बांके का शब्दिक अर्थ होता है- तीन जगह से मुड़ा हुआ और बिहारी का अर्थ ...
योग से माइग्रेन, बी.पी. और शुरूआती कैंसर का इलाज... योग हमारे जीवन का एक ज़रूरी हिस्सा है जो हमारा मानसिक, आत्मिक और शारीरिक संतुलन बनाता है| सम्पूर्ण स्वास्थ्य, नियंत्रण वज़न, सौ...
तुलसी जी की पूजा क्यों की जाती है – कारण, पू... तुलसी माता को पुरे भारत में पूजा जाता है। परन्तु उन्हें पूजे जाने के पीछे क्या कारण है, ये कम लोग ही जानते हैं। पौराणिक कथ...
loading...

Leave a Reply

avatar
500
  Subscribe  
Notify of