देवी दुर्गा के सातवें रूप कालरात्रि की कथा एवं मन्त्र

नवरात्रि के सातवें दिन देवी दुर्गा के कालरात्रि रूप को पूजा जाता है| इनका रूप बड़ा ही विकराल है देवी कालरात्रि का वीभत्स रूप देखते ही बदन में झुरझुरी सी दौड़ जाती है| देवी दुर्गा के छः रूपों का पूजन करने से भक्त का मन “सहस्त्रार चक्र” में स्थित हो जाता है| मन सहस्त्रार चक्र में स्थित होने की वजह से ब्रह्माण्ड के समस्त सिद्धियों को प्राप्त करने का उत्तम समय होता है| अगर भक्त साफ़ मन और श्रद्धा भावना से देवी कालरात्रि की उपासना करता है वह मन चाही  सिद्धि प्राप्त कर सकता है|

देवी कालरात्रि का वाहन गदर्भ यानि की गधा है देवी कालरात्रि गदर्भ पर सवार रहती हैं इनके अन्धकार के सामान काले लम्बे केश खुले तथा बिखरे रहते हैं| इनका शरीर का रंग भी काला है जो की इन्हें और भी डरावना बनाता है|  देवी कालरात्रि के तीनों नेत्र ब्रह्माण्ड के सामान बड़े बड़े और गोल गोल हैं जिनसे देवी अपने भक्तों के सभी दुखों का निदान करती हैं| साथ ही इनके गले में आकाशीय विद्युत् माला की तरह मौजूद है| माता के निचले बाएं हाथ में कटार है जिससे की रक्त की बूँदें टपक रही है साथ ही बायीं तरफ के ऊपर वाले हाथ में काँटा है| माता के दाहिनी ओर के हाथों की बात करें तो ऊपर वाला हाथ वर देने की मुद्रा में है जबकि नीचला हाथ अभयमुद्रा में है|

देवी कालरात्रि का पूजन मात्र करने से समस्त दुखों एवं पापों का नाश हो जाता है| देवी कालरात्रि के ध्यान मात्र से ही मनुष्य को उत्तम पद की प्राप्ति होती है साथ ही इनके भक्त सांसारिक मोह माया से मुक्त हो जाते हैं| देवी कालरात्रि के भक्तों को किसी भी प्रकार का भय नहीं सताता है भूत, प्रेत, पिशाच और राक्षस इनके नाम का स्मरण करने से ही भाग खड़े होते हैं|

देवी कालरात्रि के पूजन के लिए प्रयुक्त मन्त्र निम्नलिखित है| इनमें से किसी भी मन्त्र का जाप कर के आप देवी कालरात्रि की असीम कृपा प्राप्त कर सकते हैं:-

1- या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

2- एक वेधी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकणी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।।

3- वामपदोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा।
वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी।।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here