मोक्ष की प्राप्ति चाहते हैं तो इन सरोवरों में अवश्य करें स्नान

maxresdefault 11

हिन्दू धर्म के शास्त्रों में कुछ ऐसे सरोवरों का वर्णन मिलता है जिनमें स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति हो सकती है| आइए जानते हैं ये सरोवर कौन से हैं और इनका ऐतिहासिक महत्व क्या है|

कैलाश मानसरोवर

पौराणिक कथाओं के अनुसार यह सरोवर ब्रह्माजी के मन से उत्पन्न हुआ था| यह सरोवर भगवान शिव के निवास स्थान, कैलाश पर्वत के पास है| इस सरोवर को लेकर लोगों कि मान्यता है कि यहां देवी पार्वती स्नान करती हैं| बौद्ध धर्म में भी इसे बहुत पवित्र माना जाता है|

नारायण सरोवर

नारायण सरोवर गुजरात के कक्ष जिले के लखपत तहसील में स्थित है| शास्त्रों के अनुसार यह विष्णु जी का सरोवर है| भागवत पुराण में भी इस सरोवर का वर्णन किया गया है तथा यहां पर कई प्राचीन ऋषियों के आने के प्रसंग भी मिलते हैं|

पंपा सरोवर

मैसूर में कंपी के निकट अलेगुंदी नाम का एक गांव स्थित है जिसे रामायण कालीन किष्किधां माना जाता है| यहां से कुछ दूरी पर कुछ जीर्णशीर्ण मंदिर और गुफाएं मिलती हैं जिनमें से एक सबरी गुफा है| माना जाता है कि इसी स्थान पर भगवान श्री राम की भेंट सबरी से हुई थी| सबरी के गुरु का नाम मतंग ऋषि था और यहीं पर उनके नाम पर एक वन भी है|

पुष्कर सरोवर

यह सरोवर राजस्थान में अजमेर से 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है| माना जाता है कि इस सरोवर के पास भगवान ब्रह्मा जी ने स्वयं यज्ञ किया था| एक अन्य मान्यता के अनुसार यहां पर ऋषि विश्वामित्र द्वारा भी यज्ञ किया जा चुका है| पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान श्री राम ने अपने पिता राजा दशरथ के श्राद्ध यहीं पर किए थे|

बिंदु सरोवर

यहां पर प्राचीन काल में कर्दम ऋषि का आश्रम था। कर्दम ऋषि ने यहां पर 10 हजार वर्ष तपस्या की थी| यह सरोवर अहमदाबाद से उत्तर में 130 किलोमीटर की दूरी पर है| इस सरोवर का वर्णन ऋग्वेद में भी मिलता है| कथाओं में कहा गया है कि यहां पर ऋष‌ि परुशुराम ने अपनी मां का श्राद्ध किया था|

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *