शनि देव की आरती

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी॥ जय.॥

श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी।
नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी॥ जय.॥

क्रीट मुकुट शीश रजित दिपत है लिलारी।
मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी॥ जय.॥

मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी।
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी॥ जय.॥

देव दनुज ऋषि मुनि सुमरिन नर नारी।
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी ॥जय.॥

क्या आपने पढ़ा?

Ramayan Aur Ramsethu – The Real Truth Since ages, we have been told about Lord Rama and how he went to Lanka. But what about Ramsethu? Is it real or fake? What is ...
श्रीमद भागवद गीता के अनुसार ये स्थितियां हमेशा दुः... हमरा जीवन ऐसी अनेक परिस्थितियों का सामना करता है जो हमें दुःख या सुख देकर जाती हैं| इनमें से कुछ परिस्थितियां ऐसी होती हैं जि...
दूसरे की समस्या का मज़ाक ना उड़ाए, हो सकता है कल आप ... बहुत समय पहले की बात है एक गाँव था उस गाँव में एक चूहा किसान के घर में बिल बना कर रहता था| सब कुछ अच्छे से चल रहा था चूहे को ...
वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर के दर्शन करके आप एक... बांके बिहारी मंदिर कृष्ण की नगरी वृन्दावन में स्थित है। बांके का शब्दिक अर्थ होता है- तीन जगह से मुड़ा हुआ और बिहारी का अर्थ ...
जय संतोषी माँ – शुक्रवार व्रत कथा, विधि, आरत... शुक्रवार के दिन मां संतोषी का व्रत-पूजन किया जाता है। सुख-सौभाग्य की कामना के लिए माता संतोषी के 16 शुक्रवार तक व्रत किये जान...
loading...

Leave a Reply

avatar
500
  Subscribe  
Notify of