रात के समय पूजा करें तो रखें इन बातों का ध्यान

loading...

भगवान की पूजा के लिए कोई समय निश्चित नहीं किया गया है| हम किसी भी समय भगवान को याद कर सकते हैं और उनकी पूजा अराधना कर सकते हैं| केवल हनुमान जी की पूजा करते समय ध्यान रखें कि उनकी पूजा आधे प्रहर यानी 12 से 1 बजे के बीच नहीं की जानी चाहिए| क्योंकि इस समय हनुमान जी लंका में होते हैं| अन्य किसी देवी या देवता के लिए ऐसा कोई नियम नहीं है| उनकी पूजा दिन में भी की जा सकती है और रात में भी| परन्तु रात की पूजा के लिए कुछ नियम हैं जिन्हें हमें ध्यान में रखना चाहिए|

रात के समय पूजा करें तो रखें इन बातों का ध्यान

सूर्यास्त के बाद देवी – देवता सोने चले जाते हैं| इसलिए यदि आप रात में यानी सूर्यास्त के बाद पूजा कर रहे हैं तो ध्यान रखें कि शंख नहीं बजाना चाहिए| शंख ध्वनि से उनकी निद्रा बाधित होती है| कहा जाता है कि सूर्यास्त के बाद शंख बजाने से लाभ की बजाय हानि होती है|

यदि आप दिन में कोई विशेष पूजा करते हैं तो साथ में सूर्य देव की पूजा भी अवश्य करें| क्योंकि सूर्य देव को दिन का देवता भी कहा जाता है| परन्तु ध्यान रखें रात्रि में पूजा करते समय सूर्य देव की पूजा न करें|

loading...

जब भी भगवान विष्णु, श्री कृष्‍ण और सत्यनारायण जी की पूजा होती है तो पूजा में तुलसी के पत्ते का प्रयोग किया जाता है| माना जाता है कि तुलसी के पत्ते के बिना इनकी पूजा पूर्ण नहीं होती| इसलिए यदि आप रात्रि में पूजा करना चाह रहे हैं तो दिन में ही तुलसी का पत्ता तोड़ कर रख लें| सूर्यास्त के बाद तुलसी जी के सोने का समय होता है| इसलिए इस समय कभी तुलसी का पत्ता नहीं तोड़ना चाहिए|

रात के समय पूजा करें तो रखें इन बातों का ध्यान

गणेश जी की पूजा में दूर्वा का प्रयोग होता है। भगवान शिव, सरस्वती, लक्ष्मी और दूसरे देवताओं को भी दूर्वा चढ़ता है| इसलिए रात में पूजा करनी हो तो दिन में ही दूर्वा तोड़कर रख लेना चाहिए| शास्त्रों के अनुसार सूर्यास्त के बाद वनस्पतियों के साथ छेड़ छाड़ नहीं करनी चाहिए|

यदि आप रात में पूजा करते हैं तो पूजा में इस्तेमाल किये गए फूल, अक्षत और दूसरी चीजों को रात भर रहने दें| इन्हें सुबह अपने स्‍थान से हटाना चाहिए|

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here