Skip to main content

Vaishno Devi Mantra - वैष्णो देवी मंत्र

Vaishno Devi is one of the most important Goddesses of Hindu mythology. Read & recite Vaishno Devi mantra to seek her blessings. Available in Hindi and English.

माँ वैष्णो देवी, हिन्दू धर्म की प्रमुख देवियों में से एक हैं। माता के भक्त दुनियाभर में हैं और अपनी माँ को बेहद प्रेम भी करते हैं। माँ के नाम के जागरण भी किये जाते हैं। वैष्णो माता की पूजा विधि में नीचे दिए गए मन्त्रों का जाप होता है।

इस मंत्र का उच्चारण करते हुए माता वैष्णो देवी को जल समर्पण करना चाहिए

ॐ सर्वतीर्थ समूदभूतं पाद्यं गन्धादि-भिर्युतम् |
अनिष्ट-हर्ता गृहाणेदं भगवती भक्त-वत्सला ||
ॐ श्री वैष्णवी नमः |
पाद्योः पाद्यं समर्पयामि

Above Vaishno Devi Mantra in English

Om Sarvteerth Samoodbhootam Paadyam Gandhaadi-Bhiryutam |
Anisht-Harta Grihaanedam Bhagvati Bhakt-Vatsalaa ||
Om Shri Vaishnavi Namah

~~~~~~~~~~~~~~~~~

इस मंत्र के द्वारा माता वैष्णो देवी को दक्षिणा अर्पण करना चाहिए

हिरण्यगर्भ-गर्भस्थं हेम बीजं विभावसोः |
अनन्तं पुण्यफ़ल दमतः शान्ति प्रयच्छ मे ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Garbhstham Hem Beejam Vibhavasoh |

Anantam Punyafala Damatah Shanty Prayachchha Me ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~

माता वैष्णो देवी की पूजा के दौरान इस मंत्र को पढ़ते हुए उन्हें चन्दन समर्पण करना चाहिए

ॐ श्रीखण्ड-चन्दनं दिव्यं गन्धाढ्यं सुमनोहरम् |
विलेपन मातेश्वरी चन्दनं प्रति-गृहयन्ताम् ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Om Shrikhand-Chandanam Divyam Gandhaadhyam Sumanoharam |

Vilepan Maateshwari Chandanam Prati-Grihayantaam ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~

इस मंत्र के द्वारा माता वैष्णो देवी का दधि स्नान करना चाहिए

पयस्तु वैष्णो समुद-भूतं मधुराम्लं शशि-प्रभम् |
दध्या-नीतं मया स्नानार्थ प्रति-गृहयन्ताम् ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Bhootam Madhuraamlam Shashi-Prabham |

Dadhyaa-Neetam Mayaa Snaanaarth Prati Grihayantaam ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~

माता वैष्णो देवी की पूजा करते समय इस मंत्र को पढ़ते हुए उन्हें वस्त्र समर्पण करना चाहिए

शीत-शीतोष्ण-संत्राणं लज्जाया रक्षणं परम् |
देहा-लंकारण वस्त्रमतः शान्ति प्रयच्छ मे ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Sheet-Sheetoshna-Santraanam Lajjaaya Rakshanam Param |
Dehaa-Lankaaran Vastramatah Shanty Prayachchha Me ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~

इस मंत्र को पढ़ते हुए माता वैष्णो देवी को पुष्पमाला समर्पण करना चाहिए

माल्या दीनि सुगन्धीनि माल्यादीनि वै देवी |
मया-हृताणि-पुष्पाणि गृहायन्ता पूजनाय भो ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Maalya Deeni Sugandheeni Maalyaadeeni Vai Devi |

Maya-Hritaani-Pushpaani Grihayantaa Poojanaaya Bho ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~~

माता वैष्णो देवी की पूजा के दौरान इस मंत्र के द्वारा उन्हें बिल्वपत्र एवं पुष्प समर्पण करना चाहिए

बन्दारूज-नाम्बदार मन्दार प्रिये धीमहि |
मन्दार जानि पुष्पाणि रक्त-पुष्पाणि-पेहि भो ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Bandaaruj-Naambdaar Mandaar Priye Dheemahi |

Mandaar Jaani Pushpaani Rakt-Pushpaani-Pehi Bho ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~~

माता वैष्णो देवी की पूजा के दौरान इस मंत्र का उच्चारण करते हुए उन्हें अर्घ्य समर्पण करना चाहिए

ॐ वैष्णो देवी नमस्ते-स्तु गृहाण करूणाकरी |
अर्घ्य च फ़लं संयुक्तं गंधमाल्या-क्षतैयुतम् ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Om Vaishno Devi Namaste-Stu Grihaan Karunaakaree |
Arghya Ch Falam Sanyuktam Gandhmaalya Kshataiyutam ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~~

इस मंत्र को पढ़ते हुए माता वैष्णो देवी की पूजा में उन्हें आसन समर्पण करना चाहिए

ॐ विचित्र रत्न्-खचितं दिव्या-स्तरण-संयुक्तम् |
स्वर्ण-सिंहासन चारू गृहिष्व वैष्णो माँ पूजितः ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Om Vichitra Ratna-Khanchit Divyaa-Staran-Sanyuktam |
Swarn-Sinhasan Chaaru Grihishva Vaishno Maa Poojitah ||

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

माता वैष्णो देवी की पूजा में उनका आवाहन इस मंत्र के द्वारा करना चाहिए

ॐ सहस्त्र शीर्षाः पुरूषः सहस्त्राक्षः सहस्त्र-पातस-भूमिग्वं सव्वेत-स्तपुत्वा यतिष्ठ दर्शागुलाम् |
आगच्छ वैष्णो देवी स्थाने-चात्र स्थिरो भव ||

Above Vaishno Devi Mantra in English

Om Sahastra Sheershah Purushah Sahastrakshah Sahastra-Paatas-Bhoomigvam Savvet-Staputva Yatishth Darshaagulam |

Aagachchha Vaishno Devi Sthane-Chatra Sthiro Bhav ||

Comments

Popular posts from this blog

आखिर क्या था श्री राम के वनवास जाने के पीछे का रहष्य

रामायण में श्री राम, लक्ष्मण एवं सीता को चौदह वर्षों का वनवास भोगना पड़ा था और इसका कारण राम की सौतेली माता कैकयी को माना जाता है| लेकिन आखिर ऐसा क्या कारण था की महाराजा दशरथ को देवी कैकई की अनुचित मांग माननी पड़ी थी| आइये जानते है उस कथा के बारे में जिसकी वजह से भगवान् राम को वनवास जाना पड़ा और महाराज दशरथ की उस मजबूरी के पीछे के रहष्य के बारे में जिसकी वजह से उन्होंने देवी कैकई को दो वर देने का वचन दिया था| और उन्ही दो वचनों के रूप में उन्हें अपने प्राणों से प्रिये पुत्र राम को वनवास जाने का आदेश देना पड़ा| देवी कैकयी महाराजा दशरथ की सबसे छोटी रानी थी और उन्हें सबसे प्रिय भी थी| दरअसल बहुत समय पहले की बात है जब महाराजा दशरथ देव दानव युद्ध में देवताओं की सहायता करने के उद्देश्य से रणभूमि की और जा रहे थे तो देवी कैकयी ने भी साथ चलने का आग्रह किया| परन्तु महाराजा दशरथ ने ये कह कर मना कर दिया की युद्ध क्षेत्र में स्त्रियों का क्या काम स्त्रियाँ घर में अच्छी लगती हैं उनके कोमल हाथों में हथियार अच्छे नहीं लगते| देवी कैकयी उनकी बातें सुन कर बड़ी आहत हुई और भेष बदलकर महाराजा दशरथ के सारथि के रूप

भगवद गीता (अक्षरब्रह्मयोग- आठवाँ अध्याय : श्लोक 1 - 28)

अथाष्टमोऽध्यायः- अक्षरब्रह्मयोग ( ब्रह्म, अध्यात्म और कर्मादि के विषय में अर्जुन के सात प्रश्न और उनका उत्तर ) अर्जुन उवाच किं तद्ब्रह्म किमध्यात्मं किं पुरुषोत्तम । अधिभूतं च किं प्रोक्तमधिदैवं किमुच्यते ॥ भावार्थ : अर्जुन ने कहा- हे पुरुषोत्तम! वह ब्रह्म क्या है? अध्यात्म क्या है? कर्म क्या है? अधिभूत नाम से क्या कहा गया है और अधिदैव किसको कहते हैं॥1॥ अधियज्ञः कथं कोऽत्र देहेऽस्मिन्मधुसूदन । प्रयाणकाले च कथं ज्ञेयोऽसि नियतात्मभिः ॥ भावार्थ : हे मधुसूदन! यहाँ अधियज्ञ कौन है? और वह इस शरीर में कैसे है? तथा युक्त चित्त वाले पुरुषों द्वारा अंत समय में आप किस प्रकार जानने में आते हैं॥2॥ श्रीभगवानुवाच अक्षरं ब्रह्म परमं स्वभावोऽध्यात्ममुच्यते । भूतभावोद्भवकरो विसर्गः कर्मसंज्ञितः ॥ भावार्थ : श्री भगवान ने कहा- परम अक्षर ‘ब्रह्म’ है, अपना स्वरूप अर्थात जीवात्मा ‘अध्यात्म’ नाम से कहा जाता है तथा भूतों के भाव को उत्पन्न करने वाला जो त्याग है, वह ‘कर्म’ नाम से कहा गया है॥3॥ अधिभूतं क्षरो भावः पुरुषश्चाधिदैवतम्‌ । अधियज्ञोऽहमेवात्र देहे देहभृतां वर ॥ भावार्थ : उत्पत्ति-विनाश धर्म वाले सब पद

Hanuman Ji ne chhati chir ke dikhaya - हनुमान जी ने भरी सभा में अपना सीना डाला चीर

This is described in the later parts of the Ramayana. After Lord Rama came back from his vanavasa of 14 years and winning over Lanka Naresh Ravana, he was coronated as Ayodhya Naresh – the King of Ayodhya. In the celebration, precious ornaments and gifts were distributed to everyone. Hanuman was also gifted a beautiful necklace of diamonds by Sita – the wife of Rama. Hanuman took the necklace, carefully examined each and every diamond, pulled them apart, and threw them away. Most were surprised by his behaviour. When asked as to why he was throwing away the precious diamonds, he replied that he couldn’t find Rama in any one of them. Thus, they carried no worth to him since anything in which there is no Rama is without worth. When asked if Lord Rama was in Hanuman himself, he tore his chest apart to reveal his heart. The on-lookers, now convinced of his genuine devotion, saw the image of both Rama and Sita appearing on his heart.