अब हिंदुस्तान में बैंकिंग की सुविधाएं होंगी आपके अंगूठे के निशान पर!

डिजिटल लेन देन को बढ़ावा देने के लिए राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में शुरू किये गए डीजीधन मेले में आज माननीय प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने डीजीधन व्यापार योजना और लकी ग्राहक योजना के प्रथम विजेताओं की घोषणा की| साथ ही साथ उन्होंने अपने चुनाव प्रचार के दौरान किये गए विकास के नारे को भी दोहराया उन्होंने ये भी कहा की हम आने वाले समय के लिए भारत की जड़ें मजबूत करने का प्रयास कर रहें हैं|

प्रधानमन्त्री ने ये भी कहा की नोटबंदी के दौरान पुरे भारतवर्ष के लोगो ने उनके इस कदम का साथ दिया है| इस कदम को लेकर विभिन्न राजनितिक दलों ने ये आरोप लगाया था की नोटबंदी का फैसला बिलकुल बेकार साबित होगा| कुछ नेताओं ने ये भी कहा की इस कदम से खोदा पहाड़ निकली चुहिया वाली कहावत सच साबित होगी लेकिन मैं उन्हें ये बता देना चाहता हूँ की यही चुहिया पुरे देश को खोखला कर रही थी|और इसी चुहिया को बाहर निकालना था और हम अपने इस कोशिश में हद तक सफल भी हुए हैं|

उन्होंने विपक्ष पर तीखा प्रहार करते हुए कहा की आज से 3 साल पहले सिर्फ पैसा जाने की खबर होती थी पर जब से सरकार बदली है| और भाजपा सत्ता में आई है तब से सिर्फ पैसों के आने की खबर आ रही है ये पुरानी और नयी सरकार के बीच का फर्क है|

उन्होंने ये भी कहा की लकी ड्रा के विजेताओं को सम्मानित करना उनके लिए बड़े गर्व की बात होगी|मेगा लकी ड्रा के लिए 14 अप्रैल की तारीख तय की गयी है| साथ ही माननीय प्रधानमन्त्री जी ने भीप ऐप का विमोचन भी किया| भीम ऐप डिजिटल लेन देन को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया है| इसे चलाने के लिए इन्टरनेट की जरूरत नहीं पड़ेगी और ये सिर्फ अंगूठे के निशान से ही चलेगी| प्रधानमन्त्री जी ने बताया की हर व्यक्ति के अंगूठे के निशान एक दुसरे से अलग होते हैं और इसी वजह से हमने इस ऐप को स्वीकृति दी है ताकि भारतीयों की खून पसीने की गाढ़ी कमाई कोई उसके खाते से चुरा न सके|आये दिन किसी दुसरे व्यक्ति के खाते से एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर के फ्रॉड को अंजाम दिया जा रहा है इसी के मद्देनज़र हमने सुरक्षा का ख़याल रखा है|

ज्ञात हो की प्रधानमन्त्री जी ने 8 नवम्बर को नोटबंदी की घोषणा की थी और राष्ट्र के लोगों से पचास दिनों का समय माँगा था| 500 और 1000 के नोटों को बैंक में जमा करने की आखिरी तारीख 31 दिसम्बर है और नए साल से पहले 31 दिसम्बर की शाम को प्रधानमन्त्री जी एक बार फिर से राष्ट्र को संबोधित करेंगे| ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की इस संबोधन में बेनामी संपत्ति पर प्रहार हो सकता है|

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here