देवी सीता की पायलों को देखकर क्यों रोने लगे श्री राम

श्री राम राजा दशरथ के पुत्र थे। उनका विवाह देवी सीता से हुआ। देवी सीता राजा जनक की पुत्री थी। इस बात से तो हम सब अवगत हैं कि श्री राम तथा देवी सीता रामायण के प्रमुख पात्र हैं। परन्तु उनके जीवन से जुड़े कुछ प्रसंग ऐसे हैं जिनके बारे में कुछ ही लोग जानते हैं। आइए जानते हैं इन में से एक प्रसंग के बारे में-

श्री राम तथा देवी सीता के विवाह के पश्चात् उन्हें लक्ष्मण जी सहित वनवास जाना पड़ा। वनवास जाने के बाद देवी सीता का रावण द्वारा हरण हो गया। इस प्रसंग का उल्लेख रामायण के क‌िष्क‌िंधा कांड में किया गया है।

जब देवी सीता का हरण हुआ। तब देवी सीता ने श्री राम को मार्ग दिखाने के लिए अपने आभूषण साड़ी के पल्लू में बांधकर फेंक दिए। देवी सीता द्वारा फेंके गए आभूषण वानर राजा सुग्रीव को मिले। सुग्रीव ने वह आभूषण संभाल कर अपने पास रख लिए।

भगवान राम तथा लक्ष्मण जी देवी सीता को ढूंढते हुए मलय पर्वत पर पहुंचे। मलय पर्वत पर वानर राजा सुग्रीव अपने भाई बालि के डर से अपने मंत्रियों तथा शुभचिंतकों के साथ विराजमान थे। श्री राम के वहां पहुँचने पर सुग्रीव ने वह आभूषण उन्हें सौंप दिए।

साड़ी के पल्लू से बंधे आभूषणों को देखकर श्री राम लक्ष्मण जी से पूछते हैं कि क्या वह देवी सीता के बाजूबंद, कर्णफूल, हार और पायलों को पहचानते हैं? श्री राम का यह प्रश्न सुनकर लक्ष्मण जी की आँखों में पानी आ जाता है और वह कहते हैं-

नाहं जानाम‌ि केयूरे, नाहं जानाम‌ि कुण्डले। नूपुरे त्वभ‌िजानाम‌ि न‌ित्यं पादाभ‌िवन्दनात्।।

लक्ष्मण कहते हैं कि हे प्रभु! मैं  ना तो देवी सीता के बाजूबंद को पहचानता हूँ और ना ही उनके कुंडल को पहचानता हूँ। परन्तु मैं उनके पैरों में डाली हुई पायल को अवश्य पहचानता हूँ। क्योंकि मैं उनके पैरों की वंदना करता हूँ इसलिए मेरी नजर हमेशा उनके चरणों में ही रहती है और इसीलिए ही मैं केवल उनके चरणों में रहने वाली पायल को ही पहचानता हूँ।

लक्ष्मण जी की इन बातों को सुनकर श्री राम की आँखों से पानी बहने लगता है और वह लक्ष्मण जी को गले लगाकर रोने लग जाते हैं।

रामायण में भाभी को माता का स्थान दिया गया है और यह भी बताया गया है कि देवर भाभी के पुत्र के समान होता है। लक्ष्मण जी तथा देवी सीता भी इसी आदर्श का पालन करते हैं और जब भी श्री राम ने देवी सीता के विरुद्ध कोई आदेश दिया तब लक्ष्मण जी ने एक पुत्र के समान अपनी माता समान भाभी का पक्ष लेते हुए श्री राम का प्रतिवाद किया।

क्या आपने पढ़ा?

श्री कृष्ण को समर्पित भव्य जगन्नाथ मंदिर... जगन्नाथ मंदिर भारत प्रमुख मंदिरों में से एक है। यह मंदिर श्री कृष्ण भगवान को समर्पित है। यह उड़ीसा के एक शहर पूरी में स्थित है...
जगन्नाथ की मूर्ति के भीतर दफ़्न है श्री कृष्ण की मौ... हिन्दू धर्म के बेहद पवित्र स्थल और चार धामों में से एक जगन्नाथ पुरी की धरती को भगवान विष्णु का स्थल माना जाता है। जगन्नाथ मंद...
युधिष्ठिर के यज्ञ से श्रेष्ठ था ब्राह्मण का यज्ञ... एक बार महाराज युधिष्ठिर ने एक यज्ञ करवाया। यज्ञ पूर्ण होने के बाद ऋषियों की सभा एकत्रित हुई। सभा में सभी यज्ञ की चर्चा करने ल...
हनुमान जी का जन्म जिस गुफा में हुआ था उसे क्रोध मे... संसार में अगर कोई प्रभु श्री राम का सबसे बड़ा भक्त है तो वो हैं बजरंग बलि हनुमान। हनुमान जी को भगवान् श्री राम से कलयुग में भी...
भगवद गीता (मोक्षसंन्यासयोग- अठारहवाँ अध्याय : श्लो... अथाष्टादशोऽध्यायः- मोक्षसंन्यासयोग (त्याग का विषय) अर्जुन उवाच सन्न्यासस्य महाबाहो तत्त्वमिच्छामि वेदितुम्‌ । त्यागस्य ...
loading...

Leave a Reply

avatar
500
  Subscribe  
Notify of