प्रकृति का अदभुत करिश्मा: एक ऐसा शिवलिंग जो बढ़ता है दिन पर दिन

शिव जी को देवों के देव अर्थात् महादेव भी कहते हैं| इन्हें महादेव, भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है| शिवलिंग, भगवान शिव का ही स्वरुप है| इन्हे लिंग कहा जाने का कारण  शून्य, आकाश, अनन्त, ब्रह्माण्ड और निराकार परमपुरुष का प्रतीक होना है| पुराणों में शिवलिंग को कई अन्य नामों से भी संबोधित किया गया है जैसे: प्रकाश लिंग, अग्नि लिंग, उर्जा लिंग, ब्रह्माण्डीय लिंग इत्यादि|

अनेक लिंगों में से आज हम बात कर रहे है एक ऐसे शिवलिंग की जो बढ़ता है दिन पर दिन: 

चमत्कारी शिवलिंग का स्थान-

हम जिस शिवलिंग की बात कर रहे है वह ‘भूतेश्वर नाथ शिवलिंग’ के नाम से जाना जाता है, जो की विश्व का सबसे बड़ा प्राकृतिक शिवलिंग है| यह शिवलिंग घने जंगलों के बीच बसे मरौदा गांव, छत्तीसगढ़ में स्तिथ है| अगर इसके आकार की बात की जाए तो यह जमीन से 18 फीट ऊँचा और 20 फीट गोलाई में है| इसकी ऊंचाई और गोलाई हर साल बढ़ती रहती है| मान्यता है कि अगर शिवरात्री के दिन कोई व्यक्ति पद यात्रा करके इस शिवलिंग के दर्शन करने आए तो उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी|

 

जानिए भूतेश्वर नाथ शिवलिंग की प्रचलित कथा:

प्राचीन काल की बात है जिस समय जमींदारों का पृथ्वी पर बसेरा हुआ करता था, पारागांव का रहने वाला एक जमींदार शोभा सिंह संध्या के समय अपने खेतों में भ्रमण करने जाता था| उसके खेत के पास एक विशेष टीला था और उसे हमेशा उस टीले से सांड तथा शेर के गरजने की आवाज़ आती थी, उन्होंने इस चीज़ को अनसुना किया और वहां से चले गए| परन्तु जब उन्हें ये आवाज़े बार बार आने लगी तो उन्होंने गांववासियों को बताने का सोचा|

गांववासियों ने शोभा सिंह की बात सुनी और उस स्थान पर गए, और उन्हें भी वैसी आवाज़े सुनने को मिली| गांव वालो ने शेर और सांड की तलाश जारी कर दी, परन्तु वे असमर्थ रहे| किसी जानवर के न मिलने पर और लगातार शाम को उस टीले के पास आवाज़े आने के कारण लोगों की श्रद्धा उस टीले को लेकर अधिक होती रही| लोगों के द्वारा वह टीला कोई आम टीला नहीं बल्कि एक चमत्कार था| तभी सबने उस छोटी आकृति के दिखने वाले टीले को शिवलिंग का रूप माना| ग्रामवासियों ने बताया कि दिन पर दिन इसकी ऊचाई एवं गोलाई बढ़ती रही| ये बढ़ोतरी का प्रचलन आज तक भी जारी है|

कहा जाता है की इस टीले की आकृति शिवलिंग जैसी थी व साथ ही ये चमत्कारिक भी था, इसलिए गांव के लोगों की श्रद्धा इस टीले के प्रति दिन बढती गई| इस टीले का नाम भूतेश्वर इसलिए रखा गया क्योंकि इस टीले भूतों के स्वामी शिव शंकर का वास है|

आज भी अगर आप इसे देखे तो ये टीला निरंतर बढ़ता जा रहा है व लोगों में इसके प्रति आस्था व श्रद्धा भी बढ़ती जा रही है|

क्या आपने पढ़ा?

ऐसे रखें कामकाजी औरतें अपना ख्याल... कुछ वक़्त पहले की बात करें तो औरतें केवल घर के काम करती थीं और उनको अपनी सुंदरता का ख्याल रखने का वक़्त आराम से मिल जाता था| पर...
हिचकी रोकने के उपाय... यदि हमें हिचकी आये तो हमें आस - पास वालों से अक्सर यही सुनने को मिलेगा कि कोई हमें याद कर रहा है| परन्तु कई बार हिचकी रुकने क...
घर के मंदिर में यह मूर्तियां अवश्य होनी चाहिए... घर में मंदिर होना बहुत आवश्यक होता है| क्योंकि मंदिर के घर में होने से घर में सकरात्मक ऊर्जा आती है तथा यह घर में किसी भी प्र...
मुद्रा माटी हो गई, मोदी भए कुम्हार। नेता मिलि के र... मुद्रा माटी हो गई, मोदी भए कुम्हार। नेता मिलि के रो रहे, ऐसा हुआ प्रहार।। दीदी गुर्राए यहाँ, वहाँ बहन जी रोय। उधर केजर...
घर में धन-धान्य बनाए रखने के लिए महिलाओं को करने च... धर्म ग्रंथों के अनुसार, जहां महिलाओं की पूजा होती है, वहां देवी-देवताओं का वास होता है। वास्तु के अनुसार, महिलाएं घर में मौजू...
loading...

Leave a Reply

avatar
500
  Subscribe  
Notify of