रामायण तथा महाभारत दोनों में मौजूद थे ये पात्र

यदि हम रामायण और महाभारत दोनों की बात करें तो हमें इनमें कोई समानता नहीं दिखती है| क्योंकि यह दोनों अलग-अलग काल की घटनाएँ हैं| परन्तु क्या आप जानते हैं कि महभारत तथा रामायण में कुछ ऐसे पात्र हैं जो दोनों में समान रूप से पाए जाते हैं| इनका उल्लेख वेदों तथा पुराणों में भी किया गया है| आइए जानते हैं कि यह पौराणिक पात्र कौन से हैं जो रामायण और महाभारत दोनों में उपस्थित थे|

हनुमान जी

हम सभी जानते हैं कि हनुमान जी रामायण के प्रमुख पात्रों में से एक हैं| परन्तु यह सत्य कुछ ही लोगों को ज्ञात है कि हनुमान जी ने महाभारत में भी भूमिका निभाई है| महाभारत में उल्लेख मिलता है कि जब पांडव वनवास के समय जंगल में थे| उस समय हनुमान जी की महाबली भीम से मुलाकात हुई थी| हालाँकि कहीं – कहीं तो इस बात का भी उल्लेख है कि भीम और हनुमान जी दोनों भाई थे| क्योंकि दोनों ही पवन देव के पुत्र थे|

परशुराम

रामायण में परशुराम जी की भूमिका के बारे में बताया गया है कि जब श्री राम ने देवी सीता के स्वयंवर में शिव धनुष तोड़ा था| उस समय परशुराम बहुत क्रोधित हुए थे| यदि महाभारत की बात की जाए तो महाभारत में परशुराम भीष्म पितामाह के गुरु बने थे और एक प्रसंग के अनुसार उनका भीष्म के साथ युद्ध भी हुआ था|

जाम्बवंत

रामायण में जब राम सेतु बना था| उसमें जाम्बवंत ने अहम भूमिका निभाई थी| उन्होंने लंका युद्ध के दौरान हर स्थिति में श्री राम का साथ दिया था| अगर महाभारत की बात की जाए तो एक बार जाम्बवंत और श्रीकृष्ण के मध्य युद्ध हुआ था| जिसमें श्री कृष्ण विजयी हुए थे और हारने के बाद जाम्बवंत ने अपनी पुत्री जाम्बवती का विवाह श्रीकृष्ण के साथ किया था|

मयासुर

रामायण में मयासुर के बारे में बताया गया है कि मयासुर रावण की पत्नी मंदोदरी के पिता अर्थात रावण के ससुर हैं| मयासुर एक ज्योतिषी और वास्तुशास्त्री थे| महाभारत में भी मयासुर का उल्लेख मिलता है कि मयासुर ने युधिष्ठिर के लिए सभाभवन का निर्माण किया जो मयसभा के नाम से जाना जाता था|

महर्षि दुर्वासा

रामायण में महर्षि दुर्वासा के बारे में बताया गया है कि महर्षि दुर्वासा राजा दशरथ के भविष्यवक्ता थे| इन्होने रघुवंश के लिए बहुत भविष्यवाणियां भी की थी| वहीं दूसरी तरफ महाभारत में महर्षि दुर्वासा द्रोपदी की परीक्षा लेने के लिए अपने दस हजार शिष्यों के साथ उनकी कुटिया पहुंचे थे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here