कई रोगों का रामबाण इलाज – नीम

नीम को संस्कृत में अरिष्ट कहते हैं जिसका अर्थ है पूर्ण, श्रेष्ठ या कभी खराब न होने वाला| नीम अपने नाम का मतलब सार्थक करता है| यह अकेला ही कई बिमारियों का इलाज कर सकता है| इसीलिए इसे भारत में गांव का दवाखाना कहा जाता है|

एंटीबैक्टीरियल, एंटीसेप्टिक, एंटीडायबिटिक (मधुमेह), एंटीवायरल, एंटीफंगल, बुखार एवं दर्द कम करने के साथ-साथ अन्य 140 यौगिक पदार्थों का मिश्रण हमें नीम में मिलता है| केवल नीम के पत्ते ही नहीं बल्कि तने, जड़, छाल सभी गुणकारी हैं| त्वचा सम्बन्धी बिमारियों या एलेर्जी जैसे कील-मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, एक्जिमा, सोरायसिस आदि के लिए यह बेहद फायदेमंद साबित हुआ है|

नीम का रस या अर्क मधुमेह, कैंसर, हृदयरोग, हर्पीस, एलर्जी, अल्सर, हिपेटाइटिस (पीलिया) जैसी बिमारियों जड़ से खत्म करने में मदद करता है| चलिए जानते हैं नीम के कुछ और लाभ:-

1.  जख्म या जलने पर नीम का उपयोग 

नीम में एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल गुण हैं जो कटे, जले या उस स्थान पर जहाँ ज़ख्म है उसे जल्दी ठीक करता है| ज़ख्म को बढ़ने से रोकता है और उसे कम करने में मदद करता है|  की पत्तियों का पेस्ट बनाकर घाव पर लगाएं और देखें नीम का कमाल|

2.  दांतों के लिए फायदेमंद 

जहाँ आज लोग ब्रश और मेहेंगे टूथपेस्ट का इस्तेमाल करते हैं, पहले केवल नीम के दातुन के सेवन से हमारे पूर्वज अपने दातों की पूरी देखभाल करते थे| डॉक्टर आज भी नीम के दातुन के सेवन की सलाह देते हैं| यह दातों की सफाई तो करता ही है साथ ही साथ मसूड़ों की देखभाल और पायरिया से भी बचाता है|

3.  बालों की देखभाल 

अगर आप अपने बालों के झड़ने और रूखेपन से परेशान हैं तो निम्म आपके बालों को फिर से स्वस्थ कर सकता है| एंटीफूगल और एंटीबैक्टीरियल गुणों के कारण नीम बालों में रुसी, खुजली और फंगस को खत्म करता है| इसके लिए नीचे दिए गए उपाय करें –

  • नीम की कुछ पत्तियों को 3-4 गिलास पानी में उबालें और तब तक उबालें जब तक पानी का रंग हरा न हो जाए| अब इसे ठंडा होने के लिए रख दें| शैम्पू करने के बाद इस पानी से बालों को धोएं| नीम का पानी बालों के लिए नेचुरल कंडीशनर जैसा है|
  • इसके अतिरिक्त आप नीम के पाउडर में थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें| फिर इस पेस्ट को बालों में 30 मिनट तक लगा कर रखें| 30 मिनट के बाद बालों को शैम्पू से धो लें|

4.  एलेर्जी के लिए 

यह तो सभी को पता कि नीम बहुत कड़वी होती है परन्तु यही कड़वाहट हमारे शरीर को एलर्जी से बचा सकती है| नीचे दिए गए उपाय से खून साफ होगा और रक्त संचार ठीक होगा|

नीम के पत्तों की पेस्ट बना कर उसकी छोटी-छोटी गोलियां बना कर रख लें| रोज़ सुबह एक गोली शहद में डुबो कर निगल लें| इसके बाद एक घंटा खाली पेट रहें ताकि इसका असर जल्दी और ज़्यादा हो|

5.  बदन में छिपे बैक्टीरिया को खत्म करे नीम 

हमारे शरीर में तरह तरह के बैक्टीरिया होते हैं, कुछ लाभकारी और कुछ खतरनाक| अगर इन खतरनाक बैक्टीरिया की संख्या बढ़ जाये तो कई बीमारियां होती हैं जैसे पेट में कीड़े आ जाना या आँतों में हानिकारक बैक्टीरिया आ जाना आदि| इसके लिए नहाने से पहले नीम का लेप बदन पे लगाएं और सूखने पर पानी से धो लें|

6.  कैंसर को ठीक करने की क्षमता रखता है नीम 

कई बिमारियों के साथ-साथ नीम कैंसर होने से भी बचाता है| नीम में एंटीट्यूमर और एंटी-ऑक्सीडेंट जैसे कई पदार्थ होते हैं जो शुरूआती कैंसर को ठीक करने में प्रभावकारी साबित हुए है| यह इम्यून सिस्टम को मज़बूत कर फ्री रेडिकल्स को निकलता है| यह सेल्स के डिवीज़न को रोकने में सक्षम है|

7.  नाखून और कान के लिए नीम का तेल प्रभावकारी 

अगर किसी को कान में दर्द रहता है तो वह नीम का तेल इस्तेमाल कर फिर से स्वस्थ हो सकते हैं| और अगर नाखून से सम्बन्धी कोई भी दिक्कत है तो भी यह तेल आपकी मदद करेगा| इसे इन्फेक्टेड एरिया पर लगाइए और देखिये इसके लाभ| इससे नाख़ून मज़बूत बनेंगे और टूटने या छिलने से बचेंगे|

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here