जल में देवी देवताओं की मूर्तियों को विसर्जित करने का कारण

माना जाता है कि नौ द‌िनों की पूजा के बाद दसमी त‌िथ‌ि अर्थात दशहरे के द‌िन मां दुर्गा पृथ्वी से अपने लोक वापस जाती हैं| इसलिए दशहरे के दिन माँ की प्रतिमा के साथ – साथ अन्य देवी-देवताओं की प्रत‌िमा को जल में वसर्ज‌ित कर द‌िया जाता है| पहले देवी – देवताओं की प्रतिमा की पूजा की जाती है और पूजा करने के बाद उनकी प्रत‌िमा को जल में व‌िसर्ज‌ित करने का व‌िधान है| देवी – देवताओं की प्रतिमा को जल में व‌िसर्ज‌ित करने के पीछे कुछ मान्यताएं हैं जो सदियों से चली आ रही हैं| आइए जानते हैं कि वे मान्यताएं क्या हैं|

हिन्दू धर्म में जल को बहुत पवित्र माना जाता है| यह पंचतत्वों में से एक है| क‌िसी भी पूजा पाठ में जल हाथ में लेकर ही शुद्ध‌ि का मंत्र पढ़ा जाता है और इसे अपने शरीर और पूजन साम्रगी पर छ‌िड़का जाता है| जल की पवित्रता के कारण ही देवी – देवताओं की प्रतिमा को जल में विसर्जित किया जाता है|

शास्त्रों में कहा गया है कि जल ब्रह्म का ही स्वरूप है| जब सृष्टि का निर्माण नहीं हुआ था तब यहां केवल जल ही जल था और माना जाता है कि सृष्टि के अंत में केवल जल ही जल होगा| इसलिए कहा जा सकता है कि जल ही आरंभ, मध्य और अंत है| जल में त्र‌िदेवों का वास माना जाता है| इसलिए देव कार्य में जल का प्रयोग क‌िया जाता है|

जल को बुद्धि और ज्ञान का प्रतीक माना जाता है| वरुण देव जल के स्वामी हैं और विष्णु जी के अंश हैं| पुराणों के अनुसार जल से ही सभी देवी – देवताओं तथा सृष्टि का निर्माण हुआ है| इसल‌िए आद‌ि अनंत भगवान व‌िष्‍णु को देवी – देवताओं की मूर्त‌ियां समर्प‌ित कर दी जाती हैं| कहते हैं कि जल ही सृष्ट‌ि के अंत में सबकुछ अपने में समेट लेगा|

मान्यता है कि जल में देवी – देवताओं की प्रतिमाओं का विसर्जन करने से उनका अंश मूर्ति से निकलकर वापस अपने लोक चला जाता है और परम ब्रह्म में लीन हो जाता है| इसी कारण से मूर्तियों को जल में विसर्जित किया जाता है|

शास्त्रों के अनुसार देवी – देवताओं की मूर्तियों को जलाना नहीं चाहिए| क्योंकि इससे उनका अपमान होता है| यदि हम मूर्तियों को भूमि में दबाएं तो उन्हें खोदकर निकालने का डर रहता है| भूम‌ि में खेती या दूसरे कार्य करने से देवी – देवताओं की मूर्तियों को चोट लग सकती है| ऐसा करने से भी देवी – देवता अपमानित होते हैं| जल में मूर्तियों का विसर्जन करने से वह जल में घुल जाती हैं ज‌िससे देवी – देवताओं के ब्रह्मलीन होने की अनुभूत‌ि होती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...