Home कहानियाँ

कहानियाँ

एक गौ की निस्वार्थ ममता ने दिया नया जीवन

एक दिन मंगलवार की सुबह वॉक करके रोड़ पर बैठा हुआ था,हल्की हवा और सुबह का सुहाना मौसम बहुत ही अच्छा लग रहा था,तभी वहाँ एक बड़ी गाडी आकर रूकी, और उसमें से एक...

एक दोहे ने बदल डाला कईयों का भविष्य!

एक राजा को राज भोगते हुए काफी समय हो गया था बाल भी सफ़ेद होने लगे थे। एक दिन उसने अपने दरबार में एक उत्सव रखा और अपने गुरुदेव एवं मित्र देश के राजाओं...

जब त्रिपुरारी ने खंडित किया देवराज का अहंकार

देवताओं के राजा देवराज इंद्र को वर्षा के देवता माना जाता है| वेदों के अनुसार देवताओं के राजा इंद्र बड़े ही अभिमानि स्वभाव के हैं उन्हें समय समय पर अपने ऊपर अभिमान होता रहता...

आखिर क्यूँ करना पड़ा देवी को चामुण्डा रूप धारण

वेदों में कई ऐसी कथाएं हैं जिनसे आज भी लोग अछूते हैं आज हम बताते है ऐसी ही कथा के बारे में जिसके बारे में जान कर आप अचंभित रह जायेंगे| मतस्य पुराण में...

गणेश जी ने मूषक को ही क्यों चुना अपना वाहन

गौरी पुत्र भगवान श्री गणेश बुद्धि के देवता माने जाते हैं परन्तु क्या आपने कभी गौर किया है की उनका वाहन उनके शारीरिक ढाँचे के अनुरूप नहीं है| अगर आपका ध्यान इस ओर गया...

सरस्वती, लक्ष्मी, पारवती – त्रिदेवी की गाथा

त्रिदेवी यानि माँ सरस्वती, माँ पार्वती और माँ लक्ष्मी जो त्रिदेव की पत्नियां हैं| आज हम इन्हीं के बारे में जानेंगे:- माँ सरस्वती  ब्रह्मा जी की पत्नी माँ सरस्वती के बारे में कई कहानियां प्रचलित हैं| उनमें से...

गर्दभ पर विराजमान, हाथ में कलश तथा झाड़ू पकड़े हुई शीतला माता की कथा

हिन्दू लेखों के अनुसार, धर्म में 33 करोड़ देवी देवताओं के बारे में बताया गया है| भारत देश में हिन्दू धर्म के लोग देवी-देवताओं में बहुत विश्वास रखते है| उनमे से एक है शीतला माता, इनका...

Who is superior between Devas and Daanavas?

Hinduism is one of the oldest and most pious religions in the world. Today I am going to tell you about the Hindu Gods. According to the religious books known as Vedas, there are three main...

गुरुभक्त एवं सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर : एकलव्य

महाभारत काल से आज तक सबसे अच्छा और सफल धनुर्धारी अर्जुन को माना जाता है परन्तु जहाँ बात गुरु-भक्ति की आती है तो एकलव्य का नाम सबसे पहले आता है| आज हम बात करेंगे...

वसंत पंचमी के पीछे की कथा

सभी ऋतुओं को देखा जाए तो वसंत को ऋतुओं का राजा कहा जाता है| यह साल का वह वक़्त है जब प्रकृति की सुंदरता का कोई जवाब नहीं होता| माघ के महीने की शुक्ल पंचमी को सारे...