Home अन्य

अन्य

हम जो देखना चाहते हैं, हमे केवल वही दिखाई देता है

एक बार गुरु द्रोणाचार्य ने दुर्योधन और युद्धिष्ठिर की परीक्षा लेने के बारे में सोचा। उन्होंने उन दोनों से राज्य का भ्रमण कर के आने को कहा। उन्होंने युद्धिष्ठिर से कहा कि जाओ और पता लगाकर आओ की राजधानी में दुर्जन...

हफ्ते के इन दिनों में गलती से भी ना काटें अपने नाख़ून और बाल

हमने अक्सर यह सुना है कि हमें मंगलवार, गुरुवार तथा शनिवार को नाख़ून और बाल नही कटवाने चाहिए। परन्तु हमने कभी यह जानने की कोशिश नही की कि आखिर इसके पीछे क्या कारण है? ये सप्ताह...

विवाह के समय लिए गए 7 वचनों का सही अर्थ तथा महत्व

हिन्दू धर्म में विवाह के समय सात फेरे लिए जाते हैं तथा इन सात फेरों के साथ सात वचन भी लिए जाते हैं। माना जाता है कि विवाह के समय लिए गए सात फेरे तथा...

धन संपत्ति में वृद्धि के लिए इन 10 उपायों को शनिवार के दिन से...

हम सभी की आर्थिक स्थिति में उतार-चढ़ाव अक्सर आते रहते हैं। मगर कई लोगों के जीवन में तो दुःख जैसे खत्म होने का नाम ही नही लेते। एक मुसीबत खत्म नही होती तो दूसरी हमारे...

इन गलतियों के कारण मिलता है नर्क में स्थान, जाने अनजाने में कहीं आप...

आज की दुनिया कलयुग के नाम से जानी जाती है।आज के समय में हर व्यक्ति को अपने काम से मतलब है। बहुत से लाचार, बूड़े, विकलांग, गरीब व्यक्ति आपको दुनिया के हर कोने में मिलेंगे। मगर उनकी...

सेहत, बुद्धि और धन के लिए किस दिन कौन सी दाल खाना होता है...

इसमें कोई शक नही है कि सब्जियां हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। सब्जियों के साथ साथ बहुत सी ऐसी दाले भी हैं जो सेहत के लिए फायदेमंद है। दालों में अनेक पोष्टिक तत्व पाए...

स्वतंत्रता के लिए प्रेरित करनेवाला महामंत्र ‘वन्दे मातरम्’ और इस का अर्थ

हर देश का एक राष्ट्रीय गीत होता है, उसी तरह हमारे भारत देश का राष्ट्रीय गीत ‘वन्दे मातरम’ है जिसे हमारे देश में बहुत महत्व दिया जाता है । राष्ट्रीय गीत ‘वन्दे मातरम’ बकिमचंद्र...

बजट बनने से लेकर संसद में पेश होने तक, जानिए पूरी प्रक्रिया

संसद का बजट सत्र जल्दी ही शुरु होगा। फरवरी 2017 में केंद्र सरकार अपना आम बजट पेश करेगी। वहीं यह बजट कैसे बनता है, क्या-क्या तैयारी की जाती है, या इसे बनाने की प्रक्रिया...

पाकिस्तान में आज भी बजता है राजपूताना डंका

भई पाकिस्तान जो भी कर ले हिन्दुस्तानियों के रौब के आगे उनकी एक नहीं चलती. खेल का मैदान हो या फिर सरहद. हर कहीं हमारा डंका बजता है. एक हिन्दू राजसी परिवार ठीक ऐसा...

ईश्वर पर अटूट भरोसा – भगवान आपके साथ हैं

जाड़े का दिन था और शाम होने आयी । आसमान में बादल छाये थे । एक नीम के पेड़ पर बहुत से कौए बैठे थे । वे सब बार बार काँव-काँव कर रहे थे...