मरते समय यह ज्ञान की बातें बताई थी बालि ने अपने पुत्र अंगद को

रामायण में जब रावण देवी सीता का अपहरण करके लंका ले गया तो श्री राम तथा लक्ष्मण जी देवी सीता को ढूंढते हुए हनुमान जी से मिले| हनुमान जी ने श्री राम को सुग्रीव से मिलाया| श्री राम से मित्रता होने के बाद सुग्रीव ने भी देवी सीता की खोज में पूरी मदद करने का आश्वासन दिया| साथ ही सुग्रीव ने श्री राम को बताया कि किस प्रकार उसी के भाई बालि ने बलपूर्वक उसको राज्य से निकाल दिया और उसकी पत्नी पर भी अधिकार कर लिया| सुग्रीव की बात सुनकर श्री राम ने भी मित्रता का कर्तव्य निभाते हुए सुग्रीव को बालि के आतंक से मुक्ति दिलाने का भरोसा दिलाया|

जब श्री राम ने बालि को बाण मारा और वह घायल होकर धरती पर गिर पड़ा| अपने पिता के अंतिम क्षणों में अंगद उसके पास आया| तब बालि ने अंगद को कुछ ऐसी बातें बताई जो आज भी हमें परेशानियों से बचा सकती हैं|

बालि ने कहा-

देशकालौ भजस्वाद्य क्षममाण: प्रियाप्रिये।
सुखदु:खसह: काले सुग्रीववशगो भव।।

इस श्लोक में बालि ने अगंद को ज्ञान की तीन बातें बताई हैं जो इस प्रकार हैं|

देश काल और परिस्थितियों को समझो।

किसके साथ कब, कहां और कैसा व्यवहार करें, इसका सही निर्णय लेना चाहिए।

पसंद-नापसंद, सुख-दु:ख को सहन करना चाहिए और क्षमाभाव के साथ जीवन व्यतीत करना चाहिए।

यह ज्ञान की बातें बता कर बालि ने अपना पुत्र अंगद अपने भाई सुग्रीव को सौंप दिया|

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here