इस नियम से लें अखंड ज्योति का संकल्प

नवरात्रों में अखंड ज्योति का संकल्प लेने की परम्परा है| परन्तु क्या आप जानते हैं कि अखंड ज्योति के संकल्प के लिए कुछ नियमों का पालन करना बहुत आवश्यक होता है| यदि हम इन नियमों का पालन नहीं करते तो यह हमारे लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है|

आइए जानते हैं कि हमें अखंड ज्योति के लिए किन नियमों को ध्यान में रखना चाहिए|

akhnd jyoti03

शास्त्रों में अखंड ज्योति के बारे में बताया गया है कि जिस समय तक के लिए अखंड ज्योति का संकल्प लिया गया है, उससे पहले वह खंडित नहीं होनी चाहिए| यदि ऐसा होता है तो यह बहुत अशुभ माना जाता है|

अखंड ज्योति की जिम्मेदारी किसी एक व्यक्ति को दें जो अखंड ज्योति में तेल या घी खत्म न होने दे| क्योंकि घी या तेल की कमी से अखंड ज्योति खंडित हो सकती है|

akhnd jyoti02

अखंड ज्योति को हवा से बचाने के लिए उसे कांच के गोले में रख सकते हैं|

लगातार अखंड ज्योति जलने से बाती में कालिख जम जाती है जिस कारण वह बुझने लगती है| ऐसी स्थिति में एक अतिरिक्त बाती को जलाकर दीए में रख दें और मुख्य बाती को उठाकर उस पर जमीं हुई कालिख को हटा दें|

यदि अखंड ज्योति अपना समय पूरा होने के बाद भी जल रही है तो उसे बुझाये न| उसे जलते ही रहने दें|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here