Home इतिहास

इतिहास

India and Hinduism has got a vast and glorious History. India has always been famous for its religious culture, enormous temples, mythology and ancient scriptures. Learn more Facts about India and Hinduism.

हिंदू शब्द की उत्पत्ति का रहस्य

हिन्दू धर्म को सनातन, वैदिक या आर्य धर्म भी कहते हैं। हिंदू और जैन धर्म की उत्पत्ति पूर्व आर्यों की अवधारणा में है जो ४५०० ई.पू. मध्य एशिया से हिमालय तक फैले थे। आर्यों...

खुद पर विश्वास हो तो हम कुछ भी कर सकते हैं

इंसान एक ऐसा जीव है जिसने समुद्र का सीना चीर कर उसपर पुल बनाया पहाड़ों को चीर कर रास्ता बनाया पर क्या आपने कभी सोचा है की ये असम्भव से लगने वाले कार्य कैसे...

What did Ravana say to Lord Rama while dying?

The article is presented into two parts. One part is taken from the Original version of Valmiki Ramayana the second one is based on other versions of Ramayana. You need to know that in the South...

मंथानी – भजन के गांव के खंडहर | Manthani – Ruins of the Village...

मंथानी में एक बार गौरवशाली गोमेतेश्वर मंदिर के चुप खंडहरों की बुढ़ापे वाली दीवारें और क्रिप्पर सजे हुए मूर्तियां आपको ऐसा महसूस कर सकती हैं कि आपको सीधे इंडियाना जोन्स फिल्म में ले जाया...

अप्रैल फूल कहने से पहले जान ले इन बातों को वर्ना पछताना पड़ेगा

अप्रैल फूल" किसी को कहने से पहले इसकी वास्तविक सत्यता जरुर जान लें कि पावन महीने की शुरुआत को मूर्खता दिवस कह रहे हो !!पता भी है क्यों कहते है अप्रैल फूल (अप्रैल फूल का अर्थ है -  मूर्खता...

देवी ब्रम्ह्चारिणी की कथा एवं उनके स्वरुप के बारे में जाने

नवरात्रों के दौरान देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है हर दिन देवी के अलग अलग स्वरुप को पूजा जाता है| नवरात्रों में द्वितीय अर्थात दुसरा दिन देवी दुर्गा के दुसरे...

चिड़ियों से मैं बाज लडाऊं , गीदड़ों को मैं शेर बनाऊ

श्री "गुरूग्रँथ" साहिब जी - 'गुरुबाणी' में परम पिता 'परमात्मां' के लिये प्रयोग किये गए 16 "नाम" ? हरी - 50 बार ? राम - 1758 बार ? प्रभू - 1314 बार ? गोबिन्द - 204 बार ? मुरारी...

14 वर्ष के वनवास में प्रभु श्री राम कहां-कहां रहे

श्रीराम को 14 वर्ष का वनवान हुआ। इस वनवास काल में श्रीराम ने कई ऋषि-मुनियों से शिक्षा और विद्या ग्रहण की, तपस्या की और भारत के आदिवासी, वनवासी और तमाम तरह के भारतीय समाज...

देखिये देवी सरस्वती जहाँ पहली बार प्रकट हुई थी वह स्थान आज कैसा लगता...

देवी सरस्वती को कौन नहीं जानता। देवी का ज़िक्र सबसे पहले ऋग्वेद में हुआ था। सरस्वती देवी को ज्ञान, संगीत, कला और बुद्धिमता का प्रतीक माना जाता है। माता के सम्मान में हर वर्ष...

चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मावती का इतिहास

इतिहास के अनुसार रानी पद्मावती का असली नाम पद्मिनी था| पद्मिनी सिंघल प्रदेश के राजा गंधर्वसेन और रानी चम्पावती की पुत्री थी पद्मावती के पास हीरामणि नामक तोता था जो की उन्हें प्राणों से...

हिंदुस्तान में वह कौनसी जगह है जहाँ आज भी रात को गूंजती है उस...

भारत में आज भी कई ऐसी जगहें हैं जहाँ के बारे में लोगों को नहीं पता| ऐसी ही जगहों में से एक है पुणे का शनिवार वाडा| शनिवार वाडा अपनी खूबसूरती और अद्भुत शिल्पकारी...