व्रत कथा - विधि

शिवलिंग पूजा की विधि

शिवलिंग भगवान शिव और देवी पार्वती का आदि-अनादि रूप है| यह पुरुष और स्त्री की समानता का प्रतीक भी है| लिंग शब्द का अर्थ है- चिन्ह, निशानी या प्रतीक|  इस संसार में दो चीज़े...

सरस्वती माता का पूजन बसंत पंचमी पर इस तरह से किया जाता है

देवी भागवत के अनुसार देवी सरस्वती की पूजा सर्वप्रथम भगवान श्री कृष्ण ने की थी। मान्यतानुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि जिसे वसंत पंचमी के नाम से जाना जाता है, के...

तुलसी जी की पूजा क्यों की जाती है – कारण, पूजा विधि, मंत्र

तुलसी माता को पुरे भारत में पूजा जाता है। परन्तु उन्हें पूजे जाने के पीछे क्या कारण है, ये कम लोग ही जानते हैं। पौराणिक कथायों के अनुसार माँ तुलसी का नाम वृंदा था। उनका जन्म राक्षस...

बृहस्पति देव का व्रत रखने की आरती, कथा तथा विधि

गुरुवार को भगवान बृहस्पति की पूजा की जाती है तथा गुरुवार का व्रत रखा जाता है। गुरुवार का व्रत रखने का बहुत महत्व है। इससे परिवार में सुख शांति बनी रहती है। इसलिए हमें गुरुवार का...

बुधवार व्रत करने की विधि, कथा, उद्देश्य एवं फल

बुध ग्रह का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। जिन लोगों की कुंडली में बुध नीचे बैठा है उन्‍हें बुध ग्रह के कुप्रभाव से बचने के लिए बुधवार का व्रत अवश्‍य रखना चाहिए। बुध ग्रह व्यक्ति...

शनि देव से करो प्रेम – शनिवार व्रत कथा, आरती तथा विधि

शनि देव के क्रोध से तो हम सब ज्ञात हैं। उन्हें दंडाधिकारी भी माना जाता है। शनिवार का व्रत शनि महाराज को प्रसन्न करने के लिए रखा जाता है। जिनकी जन्म कुंडली में शनि की साढ़ेसाती चल...