Home धर्म व्रत कथा - विधि

व्रत कथा - विधि

पुत्र प्राप्ति के लिए किये जाने वाली छठ पूजा की कथा

पूर्वोत्तर राज्यों में ख़ास कर बिहार और उत्तर प्रदेश में छठ पर्व बड़े ही स्वच्छता और और नियम के साथ मनाया जाता है| आपने भी छठ पर्व के बारे में अवश्य सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं की इसकी शुरुआत कब और कैसे हुई थी| आइये जानते हैं...

श्री दुर्गा नवरात्रि व्रत कथा

एक समय बृहस्पति जी ब्रह्माजी से बोले - हे ब्रह्मन श्रेष्ठ! चैत्र व आश्विन मास के शुक्लपक्ष में नवरात्र का व्रत और उत्सव क्यों किया जाता है? इस व्रत का क्या फल है, इसे किस प्रकार करना उचित है? पहले इस व्रत को किसने किया? सो विस्तार से कहिये। बृहस्पतिजी...
Santoshi Mata Vrat Katha

जय संतोषी माँ – 16 शुक्रवार व्रत कथा, विधि, आरती तथा उद्देश्य

शुक्रवार के दिन मां संतोषी का व्रत-पूजन किया जाता है। सुख-सौभाग्य की कामना के लिए माता संतोषी के 16 शुक्रवार तक व्रत किये जाने का विधान है। संतोषी माता उन देवी देवताओं में से एक हैं जिनका जिक्र पुराणों में नही किया गया है। परन्तु आम जनता के बीच उनकी लोकप्रियता...
Somvati Amavasya Ki Katha

Somvati Amavasya Ki Katha – सोमवती अमावस्या की कथा

सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। ये वर्ष में लगभग एक अथवा दो ही बार पड़ती है। इस अमावस्या का हिन्दू धर्म में विशेष महत्त्व होता है। विवाहित स्त्रियों द्वारा इस दिन अपने पतियों के दीर्घायु कामना के लिए व्रत का विधान है। इस दिन...

मंगलवार व्रत कथा – सर्वसुख, राजसम्मान तथा पुत्र-प्राप्ति के लिए

हनुमान जी तो सब के प्रिये हैं, और सब हनुमान जी को प्रिये हैं| जो भी भक्त सच्चे मन से भगवान् हनुमान जी को याद करता है, प्रभु उस का कल्याण करते हैं और उस की हर इच्छा पूरी करते हैं| आइयें पढ़े हनुमान जी से जुड़ी मंगलवार व्रत कथा: एक...

प्रदोष व्रत कथा, विधि एवं महत्व

स्कंद पुराण के अनुसार प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को "प्रदोष" कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है। प्रदोष व्रत की कथा स्कंद पुराण में वर्णित एक कथा के अनुसार प्राचीन काल में एक...

शिवलिंग पूजा की विधि

शिवलिंग भगवान शिव और देवी पार्वती का आदि-अनादि रूप है| यह पुरुष और स्त्री की समानता का प्रतीक भी है| लिंग शब्द का अर्थ है- चिन्ह, निशानी या प्रतीक|  इस संसार में दो चीज़े हैं ऊर्जा और पदार्थ| हमारा शरीर पदार्थ है और आत्मा ऊर्जा है|  इसी प्रकार शिव...

सरस्वती माता का पूजन बसंत पंचमी पर इस तरह से किया जाता है

देवी भागवत के अनुसार देवी सरस्वती की पूजा सर्वप्रथम भगवान श्री कृष्ण ने की थी। मान्यतानुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि जिसे वसंत पंचमी के नाम से जाना जाता है, के दिन विद्यारंभ के शुभ अवसर पर देवी सरस्वती की पूजा करनी चाहिए। प्रात: काल समस्त दैनिक...

तुलसी जी की पूजा क्यों की जाती है – कारण, पूजा विधि, मंत्र

तुलसी माता को पुरे भारत में पूजा जाता है। परन्तु उन्हें पूजे जाने के पीछे क्या कारण है, ये कम लोग ही जानते हैं। पौराणिक कथायों के अनुसार माँ तुलसी का नाम वृंदा था। उनका जन्म राक्षस कुल में हुआ था। वृंदा विष्णु जी की परम भक्त थी। वह सच्चे मन से...

सोमवार व्रत विधि – कैसे रखते हैं सोमवार का व्रत

सोमवार व्रत भगवान शिव को समर्पित है। त्रिदेवों में एक माने जाने वाले भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए हिन्दू धर्म में सोमवार व्रत का विधान है। माना जाता है कि सोमवार का व्रत पूरे विधि- विधान के साथ करने से मन की सारी इच्छाएं पूर्ण हो जाती...

जाने आखिर क्यों अर्जुन दूर नहीं कर पाए ब्राह्मण की गरीबी?

एक बार श्री कृष्ण और अर्जुन भ्रमण पर निकले तो उन्होंने मार्ग में एक निर्धन ब्राहमण को भिक्षा मागते देखा अर्जुन को उस पर...

गणेश जी की इन मूर्तियों से प्राप्त होती है रिद्धि-सिद्धि

शास्त्रों के अनुसार गणेश जी को प्रथम पूज्य देव कहा जाता है| हिन्दू धर्म में किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले गणेश जी...

कैसे बना शेर देवी माँ का वाहन

हम सभी जानते हैं कि हिन्दू धर्म में पूजे जाने वाली दुर्गा माँ का वाहन शेर है| दुर्गा माँ को शेर वाहन के रूप में...

देवी दुर्गा के आठवें रूप देवी महागौरी की कथा

नवरात्रि का आठवाँ दिन देवी दुर्गा के महागौरी स्वरुप को समर्पित है नवरात्रि के आठवें दिन देवी महागौरी की आराधना करनी चाहिए| इनकी सच्चे...

खबरदार! इन वस्तुयों का दान करने से हो सकता है नुकसान

दान करना बहुत अच्छी बात है। हमारे संस्कारों के अनुसार हमें अगर कोई जरूरतमंद दिखे तो हमें उसकी सहायता अवश्य करनी चाहिए। दान करने...

भगवद गीता (ज्ञानविज्ञानयोग- सातवाँ अध्याय : श्लोक 1 – 30)

अथ सप्तमोऽध्यायः- ज्ञानविज्ञानयोग ( विज्ञान सहित ज्ञान का विषय ) श्रीभगवानुवाच मय्यासक्तमनाः पार्थ योगं युञ्जन्मदाश्रयः । असंशयं समग्रं मां यथा ज्ञास्यसि तच्छृणु ॥ भावार्थ : श्री भगवान बोले- हे...

एसिडिटी से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय

हमारा पाचन तंत्र हमारे खाने को पचाने के लिए पेट में एसिड बनाता है। जिससे हमारा पाचन तन्त्र नियंत्रित रहता है। परन्तु अगर एसिड की...