Home धर्म व्रत कथा - विधि

व्रत कथा - विधि

Somvati Amavasya Ki Katha

Somvati Amavasya Ki Katha – सोमवती अमावस्या की कथा

सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। ये वर्ष में लगभग एक अथवा दो ही बार पड़ती है। इस अमावस्या का हिन्दू धर्म में विशेष महत्त्व होता है। विवाहित स्त्रियों द्वारा...

सोमवार व्रत विधि – कैसे रखते हैं सोमवार का व्रत

सोमवार व्रत भगवान शिव को समर्पित है। त्रिदेवों में एक माने जाने वाले भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए हिन्दू धर्म में सोमवार व्रत का विधान है। माना जाता है कि सोमवार का...

श्री शनि देव की सत्य कथा – Shri Shani Dev Ki Satya Katha (Video)

शनि देव के बारे में तो हर मनुष्य जानता हैं| कुछ लोग उन से डरते हैं और कुछ उन से बेहद प्रेम करते हैं| परन्तु उन से डरने की कोई बात ही नहीं है|...

मंगलवार के दिन व्रत रखने से जुड़ी कथा – व्रत ऐसे रखें

मंगलवार का व्रत भगवान हनुमान को प्रसन्न करने के लिए रखा जाता है। इस व्रत का मुख्य उद्देश्य सर्वसुख, राजसम्मान तथा पुत्र प्राप्ति है। ऐसा तो सब जानते हैं कि मंगलवार का व्रत हनुमान जी के लिए...

धन, दौलत, स्वास्थय और वैभव – शुक्रवार संतोषी माता का व्रत

अगर आप अच्छे स्वास्थय के साथ साथ धन, दौलत, सुख, समृद्धि और वैभव पाना चाहते हैं तो शुक्रवार को अवश्य करें संतोषी माता का व्रत| साथ ही शाम को उनके भजन सुनने से भी उनकी...

प्रदोष व्रत कथा, विधि एवं महत्व

स्कंद पुराण के अनुसार प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को "प्रदोष" कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता...

शिवलिंग पूजा की विधि

शिवलिंग भगवान शिव और देवी पार्वती का आदि-अनादि रूप है| यह पुरुष और स्त्री की समानता का प्रतीक भी है| लिंग शब्द का अर्थ है- चिन्ह, निशानी या प्रतीक|  इस संसार में दो चीज़े...

सरस्वती माता का पूजन बसंत पंचमी पर इस तरह से किया जाता है

देवी भागवत के अनुसार देवी सरस्वती की पूजा सर्वप्रथम भगवान श्री कृष्ण ने की थी। मान्यतानुसार माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि जिसे वसंत पंचमी के नाम से जाना जाता है, के...

तुलसी जी की पूजा क्यों की जाती है – कारण, पूजा विधि, मंत्र

तुलसी माता को पुरे भारत में पूजा जाता है। परन्तु उन्हें पूजे जाने के पीछे क्या कारण है, ये कम लोग ही जानते हैं। पौराणिक कथायों के अनुसार माँ तुलसी का नाम वृंदा था। उनका जन्म राक्षस...

बृहस्पति देव का व्रत रखने की आरती, कथा तथा विधि

गुरुवार को भगवान बृहस्पति की पूजा की जाती है तथा गुरुवार का व्रत रखा जाता है। गुरुवार का व्रत रखने का बहुत महत्व है। इससे परिवार में सुख शांति बनी रहती है। इसलिए हमें गुरुवार का...

बुधवार व्रत करने की विधि, कथा, उद्देश्य एवं फल

बुध ग्रह का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। जिन लोगों की कुंडली में बुध नीचे बैठा है उन्‍हें बुध ग्रह के कुप्रभाव से बचने के लिए बुधवार का व्रत अवश्‍य रखना चाहिए। बुध ग्रह व्यक्ति...
Shani Dev Vrat

शनि देव से करो प्रेम – शनिवार व्रत कथा, आरती तथा विधि

शनि देव के क्रोध से तो हम सब ज्ञात हैं। उन्हें दंडाधिकारी भी माना जाता है। शनिवार का व्रत शनि महाराज को प्रसन्न करने के लिए रखा जाता है। जिनकी जन्म कुंडली में शनि की साढ़ेसाती चल...