धर्म

Hinduism is the World’s most sacred and the oldest religion. Hinduism is a way of life and is often called as the eternal law beyond human origins. Hindu practices include rituals such as worship and recitations, meditation, family-oriented rites of passage, annual festivals, and pilgrimages. Every Hindu should follow honesty, ahimsa, patience, forbearance, self-restraint, compassion….

श्री रामचन्द्र जी की आरती

भगवान श्री राम रामायण के प्रमुख पात्र हैं| विष्णु अवतार श्री राम का नाम जपने से सभी कष्ट दूर होते हैं। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के नाम को ही मंत्र माना जाता है। रामचन्द्र जी की आरती श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भवभय दारुणं | नवकंज लोचन, कंजमुख, करकुंज, पदकंजारुणं || श्री रामचन्द्र...

कैसे आया भीम में 10 हज़ार हाथियों का बल?

भीम एक बहुत बलशाली योद्धा था। महाभारत में भीम के बारे में बताया गया है कि भीम में दस हजार हाथियों के समान बल था। एक बार भीम ने अकेले ही अपने बल से नर्मदा नदी का प्रवाह रोक दिया था। भीम में इतना बल आने के पीछे एक रोचक गाथा...

सूर्य देव को समर्पित ओडिशा में स्तिथ कोणार्क मंदिर

कोणार्क सूर्य मंदिर सूर्य देव को समर्पित है। यह मंदिर पूर्वी गंगा साम्राज्य के महाराजा नरसिंहदेव ने बनवाया था। यह मन्दिर ओडिशा राज्य के कोणार्क में स्थित है। यह मन्दिर रथ के आकार में बना हुआ है। जिसके कुल 24 पहिये हैं। रथ पर 7 घोड़े भी हैं। इस मन्दिर के निर्माण में कीमती धातुयों...

रावण के अनुसार स्त्रियों में होते हैं ये 8 अवगुण

रावण के अंदर ज्ञान होने के साथ साथ बहुत बुराइयां भी थी। परन्तु रावण की सबसे बड़ी बुराई थी कि वह सुंदर स्त्रियों को देखकर तुरन्त ही मोहित हो जाता था। सीता जी के हरण के पीछे भी केवल यही एक कारण था कि रावण सीता जी की सुंदरता को...

शिव महापुराण में बताये गए हैं मृत्यु के यह संकेत

भगवान शिव को महाकाल भी कहा जाता है। धार्मिक ग्रन्थों में शिव जी को अनादि व अजन्मा बताया गया है। महाकाल उसे कहा जाता है मृत्यु भी जिसके अधीन रहती है। शिवपुराण में ऐसी बातों का जिक्र किया गया है जिन से मृत्यु के संकेत मिलते हैं। शिवपुराण में मृत्यु...

रावण के सर्वनाश का कारण थे ये लोग

रावण बहुत बड़ा ज्ञानी तथा महापंडित था। परन्तु अपने ही अहंकार के कारण वह मृत्यु को प्राप्त हुआ। रावण का वध श्री राम के द्वारा हुआ। परन्तु क्या आप जानते हैं कि रावण के सर्वनाश के पीछे उसे मिले हुए श्रापों का भी हाथ था। आइए जानते हैं रावण के...

श्री लक्ष्मी चालीसा

देवी लक्ष्मी को वैभव की देवी माना जाता है। लक्ष्मी जी की नित्य पूजा करने से जीवन में कभी दरिद्रता नहीं आती। घर सुख समृद्धि से परिपूर्ण रहता है। श्री लक्ष्मी चालीसा ॥ दोहा॥ मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास। मनोकामना सिद्घ करि, परुवहु मेरी आस॥ ॥ सोरठा॥ यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती...

पांडवों ने खाया था अपने मृत पिता के शरीर का मांस

पाण्डु के पांच पुत्र थे युधिष्ठर, भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव।  युधिष्ठर, भीम और अर्जुन कुंती के पुत्र थे और नकुल तथा सहदेव माद्री के पुत्र थे। यह पांचो पुत्र पाण्डु को उनकी पत्नियों द्वारा भगवान का आहवान करने पर प्राप्त हुए थे। पाण्डु के मन में यह बात थी कि उनके पाँचों...

जयपुर में स्तिथ यमुना देवी को समर्पित यमुनोत्री मंदिर

यमुनोत्री मंदिर 19 वीं सदी में जयपुर की महारानी गुलेरिया द्वारा बनवाया गया था। यह मंदिर गढ़वाल हिमालय के पश्चिम में समुद्र तल से 3235 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस मंदिर में यमुना देवी की मूर्ति के साथ - साथ हिंदू भगवान यम की भी मूर्ति है। कहा जाता है कि यम हिंदू...

बालक ध्रुव कैसे बना एक तारा – इसके पीछे की कथा क्या है?

राजा उत्तानपाद के पिता स्वयंभुव मनु और माता शतरुपा थी। उत्तानपाद की दो पत्नियां थीं सुनीति और सुरुचि। राजा उत्तानपाद को अपनी पत्नियों से दो पुत्र प्राप्त हुए। राजा को सुनीति से ध्रुव और सुरुचि से उत्तम नाम के पुत्रों की प्राप्ति हुई। सुनीति पहली पत्नी थी। परन्तु फिर भी राजा का प्रेम सुरुचि से अधिक...

नर्क जाने से खुद को बचाना चाहते हो तो यह सब...

हमारे जीवन का सबसे बड़ा सत्य है मृत्यु। हम सब के मन में अक्सर यह प्रश्न जरूर उठता है कि मृत्यु के बाद क्या होता है? शास्त्रों में...

ऐसा क्यों है की औरतें आपकी राजदार नहीं बन सकतीं?

महाभारत काल की कई ऐसी घटनाएं हैं जिससे आज भी बहुत सारे लोग अनभिज्ञ है| कई ऐसी घटनाएं हैं जिनके रहस्य से कई लोग...

भगवद गीता में छिपा है सफलता का सार – गीता सार...

अगर हमें जीवन में सफलता पानी है तो इसे पाने का केवल एक ही उपाय है और वह है कर्म। जीवन में बिना कर्म...

अपने माता-पिता से आपका व्यवहार कैसा है इसके पीछे का कारण...

पूर्व जन्मों के कर्मों से ही हमें इस जन्म में माता-पिता, भाई-बहन, पति-पत्नि, प्रेमी-प्रेमिका, मित्र-शत्रु, सगे-सम्बन्धी इत्यादि संसार के जितने भी रिश्ते नाते हैं,...

मोटापा कम करने के घरेलू उपाय

आज के समय में अधिक वजन की समस्या से हर कोई परेशान है। आज की युवा पीढ़ी के लिए सुंदर दिखना बेहद आवश्यक हो...

रुद्राक्ष और तुलसी की माला धारण करने की धार्मिक तथा वैज्ञानिक...

आपने अक्सर देखा होगा कि हिन्दू धर्म में लोग रुद्राक्ष तथा तुलसी की माला पहनना शुभ मानते हैं। परन्तु क्या आप जानते हैं कि इन...

रावण के भाई कुंभकर्ण के बारे में यह सब बातें जान...

कुंभकर्ण रावण का भाई था| कुंभकर्ण भी रावण की तरह बहुत शक्तिशाली था| रावण, विभीषण तथा कुंभकर्ण तीनों भाई ब्रह्मा जी को प्रसन्न करना चाहते थे|...