Skip to main content

आखिर क्यों नारद मुनि के लिए स्वर्गलोक के द्वार बंद करने पड़े ?

नारद मुनि ब्रह्मदेव के सात मानस पुत्रों में से एक है जिन्हे ब्रह्मऋषि की उपाधि दी गयी है| नारद भगवान विष्णु के अनन्य भक्त कहलाते हैं| ब्रह्मऋषि होने के बावजूद ऐसा क्या हुआ कि नारद मुनि को स्वर्गलोक में आने नहीं दिया जा रहा था?

हम सभी ये जानते हैं कि नारद मुनि चंचल स्वभाव के थे| उनका ऐसे कही पर भी बार-बार बिना बुलाये आ जाना सभी देवों की परेशानी का कारण बन गया था| सभी देवों ने मिलकर एक उपाय निकाला कि सभी अपने द्वारपालों को आदेश दें कि नारद मुनि को स्वर्गलोक में प्रवेश ना करने दिया जाए| अतः कोई न कोई बहाना बना कर टाल दिया जाए|

अगले दिन नारद जी भगवान शिव से मिलने कैलाश पर्वत पहुंचे तब नंदी ने उन्हें रोका और कहा आप कहीं और जाकर अपनी वीणा बजाएँ क्योंकि भगवान शंकर ध्यान मुद्रा में लीन हैं| यह सुन कर नारद मुनि क्रोधित हो उठे और भगवन विष्णु से मिलने क्षीरसागर पहुंचे| वहां पक्षीराज गुरुड़ ने उन्हें अंदर प्रवेश नहीं करने दिया| ऐसे ही वे हर देवता के पास गए परन्तु किसी ने भी उन्हें स्वर्गलोक के अंदर आने की अनुमति नहीं दी|

नारद मुनि को समझ नहीं आ रहा था कि वे अपने अपमान का बदला कैसे लें| वह इधर उधर भ्रमण करते हुए काशी पहुंचे जहाँ उनका मिलाप एक प्रसिद्ध महात्मा से हुआ| नारद जी ने अपनी समस्या उनके सामने रखी| कुछ देर बाद संत बोले कि मैं तो खुद देवताओं का ध्यान करता हूँ, मैं आपकी मदद किस प्रकार कर सकता हूँ|

संत ने फिर कहा की उनके पास देवताओं के दिए हुए तीन अद्भुत पाषाण हैं, हर पाषाण से किसी भी तरह की मनोकामना पूरी हो सकती है| नारद जी ने तीनों पाषाण लिए और आगे बढ़ चले| चलते-चलते उनके मन में एक विचार आया कि इन पाषाणों के इस्तेमाल से देवताओं का ध्यान अपनी ओर बटोरा जा सकता है|

नारद जी एक नगर में पहुंचे जहाँ बहुत ज़ोर से रोने की आवाज़े आ रही थी| उन्हें पता चला कि वहां बड़े सेठ की मृत्यु हुई थी, तब उन्होंने अपने एक पाषाण का इस्तेमाल किया और बड़े सेठ को जीवित कर दिया| थोड़ा आगे जा कर उन्हें एक भिखारी दिखा जो कोढ़ के रोग से परेशान था, नारद जी ने दूसरे पाषाण से उसका रोग दूर कर उसे लखपति बना दिया और अंत में तीसरे पाषाण से उन्होंने कामना की कि फिर से तीनों पाषाण उन्हें वापिस मिल जाएं|

इसके बाद वह ऐसे ही उल्टी-सीधी इच्छाएं कर सृष्टि के चक्र में बाधाएं उत्पन्न करने लगे| इस से सभी देवता परेशान हो गए| उनको एहसास हुआ की नारद जी का स्वर्गलोग में प्रवेश न करना सही निर्णय नहीं था| नारद जी चंचल स्वभाव के तो थे परन्तु उनके द्वारा हर लोक की सूचनाएं मिल जाया करती थी|

तब सभी देवताओं ने निश्चित किया कि वरुण देव एवं वायु देव नारद जी को लेकर आएँगे| उन्होंने पृथ्वी लोक पर नारद जी की खोज शुरू की और उन्हें गंगा के किनारे पाया| नदी के तट पर ही नारद जी की वीणा रखी थी जो वायु देव के बहने से बज उठी| वीणा के बजने पर नारद जी का ध्यान वीणा की तरफ गया तो वहाँ वरुण देव और वायु देव को पाया|

फिर नारद जी ने उनसे आने का कारण जाना| वरुण देव ने उनसे कहा कि सभी देवता अपने व्यव्हार से शर्मिंदा हैं और आपको वापिस स्वर्गलोक बुला रहे हैं| नारद जी ने भी अपने क्रोध को भूलकर देवलोक की तरफ प्रस्थान किया और तीनों पाषाणों को गंगा में बहा दिया|

Comments

Popular posts from this blog

आखिर क्या था श्री राम के वनवास जाने के पीछे का रहष्य

रामायण में श्री राम, लक्ष्मण एवं सीता को चौदह वर्षों का वनवास भोगना पड़ा था और इसका कारण राम की सौतेली माता कैकयी को माना जाता है| लेकिन आखिर ऐसा क्या कारण था की महाराजा दशरथ को देवी कैकई की अनुचित मांग माननी पड़ी थी| आइये जानते है उस कथा के बारे में जिसकी वजह से भगवान् राम को वनवास जाना पड़ा और महाराज दशरथ की उस मजबूरी के पीछे के रहष्य के बारे में जिसकी वजह से उन्होंने देवी कैकई को दो वर देने का वचन दिया था| और उन्ही दो वचनों के रूप में उन्हें अपने प्राणों से प्रिये पुत्र राम को वनवास जाने का आदेश देना पड़ा| देवी कैकयी महाराजा दशरथ की सबसे छोटी रानी थी और उन्हें सबसे प्रिय भी थी| दरअसल बहुत समय पहले की बात है जब महाराजा दशरथ देव दानव युद्ध में देवताओं की सहायता करने के उद्देश्य से रणभूमि की और जा रहे थे तो देवी कैकयी ने भी साथ चलने का आग्रह किया| परन्तु महाराजा दशरथ ने ये कह कर मना कर दिया की युद्ध क्षेत्र में स्त्रियों का क्या काम स्त्रियाँ घर में अच्छी लगती हैं उनके कोमल हाथों में हथियार अच्छे नहीं लगते| देवी कैकयी उनकी बातें सुन कर बड़ी आहत हुई और भेष बदलकर महाराजा दशरथ के सारथि के रूप

भगवद गीता (अक्षरब्रह्मयोग- आठवाँ अध्याय : श्लोक 1 - 28)

अथाष्टमोऽध्यायः- अक्षरब्रह्मयोग ( ब्रह्म, अध्यात्म और कर्मादि के विषय में अर्जुन के सात प्रश्न और उनका उत्तर ) अर्जुन उवाच किं तद्ब्रह्म किमध्यात्मं किं पुरुषोत्तम । अधिभूतं च किं प्रोक्तमधिदैवं किमुच्यते ॥ भावार्थ : अर्जुन ने कहा- हे पुरुषोत्तम! वह ब्रह्म क्या है? अध्यात्म क्या है? कर्म क्या है? अधिभूत नाम से क्या कहा गया है और अधिदैव किसको कहते हैं॥1॥ अधियज्ञः कथं कोऽत्र देहेऽस्मिन्मधुसूदन । प्रयाणकाले च कथं ज्ञेयोऽसि नियतात्मभिः ॥ भावार्थ : हे मधुसूदन! यहाँ अधियज्ञ कौन है? और वह इस शरीर में कैसे है? तथा युक्त चित्त वाले पुरुषों द्वारा अंत समय में आप किस प्रकार जानने में आते हैं॥2॥ श्रीभगवानुवाच अक्षरं ब्रह्म परमं स्वभावोऽध्यात्ममुच्यते । भूतभावोद्भवकरो विसर्गः कर्मसंज्ञितः ॥ भावार्थ : श्री भगवान ने कहा- परम अक्षर ‘ब्रह्म’ है, अपना स्वरूप अर्थात जीवात्मा ‘अध्यात्म’ नाम से कहा जाता है तथा भूतों के भाव को उत्पन्न करने वाला जो त्याग है, वह ‘कर्म’ नाम से कहा गया है॥3॥ अधिभूतं क्षरो भावः पुरुषश्चाधिदैवतम्‌ । अधियज्ञोऽहमेवात्र देहे देहभृतां वर ॥ भावार्थ : उत्पत्ति-विनाश धर्म वाले सब पद

श्री हनुमान चालीसा और उसका सम्पूर्ण अर्थ - Hanuman Chalisa

जय हनुमान जी की. भक्तों, आपको श्री हनुमान चालीसा के बारे में तो पता ही होगा। हो सकता है आप इसका जाप भी करते हों. परन्तु, क्या आपको चालीसा की सभी दोहों का अर्थ मालूम है? अगर नहीं तो आप नीचे लिखे हुए दोहे और उनके अर्थ के बारे में जान सकते हैं. Hanuman Chalisa ka matlab – What is the meaning of Hanuman Chalisa? दोहा 1 : श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि | बरनऊँ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि || अर्थ: “शरीर गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रूपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन करता हूँ, जो चारों फल धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को देने वाला हे।” दोहा 2 : बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरो पवन-कुमार | बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार || अर्थ: “हे पवन कुमार! मैं आपको सुमिरन करता हूँ। आप तो जानते ही हैं, कि मेरा शरीर और बुद्धि निर्बल है। मुझे शारीरिक बल, सद्बुद्धि एवं ज्ञान दीजिए और मेरे दुःखों व दोषों का नाश कर दीजिए।” दोहा 3 : जय हनुमान ज्ञान गुण सागर, जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥1॥ अर्थ: “श्री हनुमान जी!आपकी जय हो। आपका ज्ञान और गुण अथाह है। हे कप