क्या आप जानते हैं कहाँ बनाई गयी 1600 किलो मक्खन से देवी की प्रतिमा?

भारत विविधताओं का देश है और ऐसे बहुत से वाकये है जो इस बात को सच साबित करते हैं ऐसा ही एक वाकया इन दिनों सुर्ख़ियों में है| जी हाँ हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध ब्रजेश्वरी देवी मंदिर के बारे में आप लोगों ने शायद सुना ही होगा हाल ही में इस मंदिर में 1,600 किलोग्राम मक्खन से बनी देवी ब्रजेश्वरी की प्रतिमा को स्थापित करने की तैयारी शुरू की गई| मंदिर के अधिकारी पवन बद्याल ने कहा कि श्रद्धालु जल्द ही मक्खन से बनी देवी ब्रजेश्वरी की भव्य प्रतिमा के दर्शन का सौभाग्य प्राप्त कर पायेंगे|


इस प्रतिमा का निर्माण देसी घी से हुआ है, जिसे मंदिर के पुजारियों द्वारा 101 बार पवित्र जल से शुद्ध किया गया है| मंदिर के अधिकारी पवन बद्याल के अनुसार मक्खन से बनी प्रतिमा को देवी की पिंडी से हटाने के बाद इसे ‘प्रसादा’ के रूप में भक्तों और श्रद्धालुओं में बांट दिया जाएगा| 

ऐसी मान्यता है की ये प्रथा सदियों से चली आ रही है हिमाचल प्रदेश के लोगों के मन में देवी ब्रजेश्वरी के लिए गहरी आस्था मौजूद है| यहाँ के लोगों में देवी ब्रजेश्वरी के दर्शन करने की होड़ लगी रहती है और समारोह के समापन के बाद बटने वाले प्रसादा को पाने के लिए श्रद्धालु सदा ही लालायित रहते हैं| देवी ब्रजेश्वरी की मक्खन से बनी प्रतिमा के प्रसादा के बारे में ये मान्यता प्रचलित है की इस प्रसादा से त्वचा के पुराने से पुराने रोग तथा जोड़ों के दर्द ठीक हो जाते हैं|

इस मान्यता के पीछे एक प्रचलित कथा है जिसके अनुसार दानवों से युद्ध के दौरान जब देवी घायल हो गई थीं, तब मकर संक्रांति के दिन उनके घाव पर भगवान ने मक्खन का लेप लगाया था और मक्खन का लेप लगाने से देवी के घाव बहुत ही जल्दी भर गए थे| उत्तर भारत के सबसे व्यस्त मंदिरों में से एक हिमाचल प्रदेश के ब्रजेश्वरी देवी मंदिर में पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, दिल्ली, उत्तर प्रदेश  एवं अन्य राज्यों से श्रद्धालु आते हैं| हर साल मकर संक्रांति के दिन मक्खन से बनी देवी की प्रतिमा को स्थापित करने की तैयारी शुरू होती है| उसके बाद यह पर्व एक सप्ताह तक बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है और श्रधालुओं की आस्था का ये महा पर्व हिमाचल प्रदेश के पवित्र पर्वों में से एक है|

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here