115 दिन पाकिस्तान में कैद रहे सैनिक की दर्दनाक कहानी, शरीर पर चोटों के निशान

पाकिस्तानी सेना के चंगुल से 115 दिनों बाद छूटकर भारत लौटे सिपाही चंदू बाबूलाल चव्हाण (22) सुधबुध खो बैठे हैं। सेना की 37 राष्ट्रीय राइफल के इस सिपाही के दिल में पाकिस्तान में हुए जुल्म इस तरह घर कर गए हैं कि उनकी मानसिक हालत बिगड़ गई है। गर्दन में थे चोटों के निशान…

– जब पाकिस्तान ने उन्हें लौटाया तब चंदू आधी बेहोशी की हालत में था। उसकी गर्दन पर चोटों के निशान थे।
– टॉर्चर से वह अब तक उबर नहीं सके हैं। उन्हें नॉर्मल करने के लिए सेना के डॉक्टर्स ने पहले अमृतसर के हॉस्पिटल में इलाज किया।
– अब दिल्ली में सेना के अफसर व एक्सपर्ट्स काउंसलिंग कर उन्हें दुबारा नॉर्मल करने की कोशिश कर रहे हैं।
115 दिन तक सोशल मीडिया में चलाया अभियान
– जितना टॉर्चर चंदू ने पाकिस्तान में सहा उतना ही दुख उसके परिवार ने देश में सहा।
– चंदू को भारत लाने के लिए उनके बड़े भाई फौजी भूषण चव्हाण बीते 115 दिन से सोशल मीडिया पर जंग लड़ रहे थे। खासकर ट्विटर पर।
– भूषण बताते हैं -29 सितंबर की रात मेरा छोटा भाई चंदू जम्मू-कश्मीर के कृष्णा घाटी सेक्टर में गलती से एलओसी पारकर पीओके में चला गया।
– वहां उसे पाकिस्तानी सेना ने पकड़कर बंधक बना लिया। उस दिन पूरा देश सर्जिकल स्ट्राइक की खुशी में डूबा था और इधर मेरे परिवार पर मुसीबत का पहाड़ टूट पड़ा था।

गांव वालों ने कहा- सरबजीत जैसा होगा हाल

– चंदू के पाकिस्तान जाने की खबर सुनते ही नानी लीला बाई पाटिल को ऐसा सदमा लगा कि हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई।
– भूषण बताते हैं बचपन से ही हमारे माता पिता की मौत हो गई थी। उसके बाद से महाराष्ट्र के धुले जिले के बोरविहिर गांव में नाना सीडी पाटिल ने ही हमारी परवरिश की।
– खबर सुनकर मैं तुरंत ही गांव पहुंचा। वहां पूरा गांव निराशा व गम में डूबा हुआ था। गांव वाले कह रहे थे- अब चंदू का हाल भी सरबजीत जैसा होगा और वह भी पाकिस्तान की यातनाओं का शिकार हो जाएगा।
– पूरे गांव को उसके लौटने की उम्मीद खत्म हो गई थी। वे बताते हैं, खबर सुनकर नाना की आंखें पथरा गई थी। उसके लौटने की उम्मीद धूमिल गई थी।
– लेकिन मुझे विश्वास था कि चंदू सेना का सिपाही है, इसलिए पाकिस्तान उसे वहां नहीं रख सकता।
– दो-तीन दिन बाद सबसे पहले पाकिस्तान टीवी पर ये बताया गया कि वह पाकिस्तानी सेना की हिरासत में है। वो जिंदा है यह सुनकर एक उम्मीद जगी।

चंदू के दोस्त भी अभियान में शामिल

– तीन-चार दिन तक उसके लिए हमारे सांसद व रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे को कॉल किए। सेना भी कोशिश कर रही थी, बावजूद रिहाई की खबर नहीं आई तो मैंने तुरंत ही उसके लिए सोशल मीडिया पर अभियान छेड़ने की ठानी।
– 5 अक्टूबर को मैंने अपना ट्विटर हैंडल बनाया और सबसे पहला ट्वीट चंदू के नाम किया ‘चंदू घर आ जाओ, बाबा की तबीयत खराब हो रही है, मिस यू’।
– इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री, विदेश मंत्री से लेकर सबको ट्वीट करने शुरू किए। इस अभियान में मेरे और चंदू के दोस्त भूषण बाघ, चेतन पाटिल, हितेष कछवे, मालदा की संगमित्रा दास सहित
दस बारह लोग जुड़ गए।
– सभी ने अपने ट्विटर हैंडल से रोजाना ट्‌वीट करने शुरू किए। इंग्लिश अच्छी नहीं होने के कारण मैं रोमन हिंदी में मैसेज करता था। बाद में अच्छी अंग्रेजी जानने वालों की मदद से ट्वीट करने लगा।
– इस तरह कुल 1000 से ज्यादा संदेशों में हमने परिवार की पीड़ा बयां की। कुछ महीनों तक तो किसी ने कोई जवाब नहीं दिया। इसके साथ मैंने पीएम से लेकर सभी को पत्र लिखने शुरू किए।

पाकिस्तानी हाई कमिशन ने भी मदद का दिया भरोसा

– मेरे नाना ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बात की तो उन्होंने इस मुद्दे पर कूटनीतिक तौर पर प्रयास कर चंदू को वापस लाने का भरोसा दिलाया। जैसे-जैसे दिन बीत रहे थे, मेरी चिंता बढ़ती जा रही थी।
– फिर मैं रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से मिला। इस बीच 19 दिसंबर को डीजीएमओ के ऑफिस से मुझे पत्र मिला। जिसमें लिखा था कि चंदू को लाने के लिए 15 बार भारतीय डीजीएमओ ने पाकिस्तान डीजीएमओ से हॉट लाइन पर बात की है।
– रक्षा मंत्रालय की रिक्वेस्ट पर विदेश मंत्रालय भी इस मुद्दे पर कोशिश कर रहा है। इससे पहले 1 दिसंबर को पीएमओ ने पत्र भेजकर चंदू के लिए किए जा रहे कोशिशों के बारे में बताया।
– इससे पहले यूएन में पाकिस्तान की राजदूत मलिहा लोधी ने मुझे ट्विटर पर मैसेज कर बताया कि वह मानवीयता के आधार पर इस मुद्दे को उठा रही हैं।
– उन्होंने मुझे डिटेल में मेल करने के लिए कहा तो मैंने पूरी जानकारी भेज दी। इसके बाद पाकिस्तान हाई कमीशन अब्दुल बासित ने मदद का भरोसा दिलाया।

मानसिक हालत सही नहीं, आधे बेहोशी की हालत

– इस अभियान का असर नए साल में सामने आया। सबसे पहले चंदू की रिहाई की खबर 14 जनवरी को पाकिस्तान में भारतीय हाई कमीशन ने ट्वीट कर दी। 21 जनवरी की शाम चंदू को पाकिस्तान ने भारतीय सेना को सौंप दिया।
– उसके बाद अमृतसर के मिलिट्री अस्पताल में उसे भर्ती कराया गया। सबसे पहले वहां उससे रक्षा राज्य मंत्री भामरे मिले, इसके बाद सेना ने किसी से मिलने की अनुमति नहीं दी।
– चंदू की मानसिक हालत ठीक नहीं है, जब उसे लौटाया तब वह आधे बेहोशी हालत में था। उसकी गर्दन पर चोटों के निशान हैं।
– अब उसे दिल्ली में रखा गया है, जहां पूरे परिवार को मिलने के लिए बुलाया। सेना उससे इन्क्वायरी के बाद छोड़ेगी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here