तनाव जो की अपने आप में एक बीमारी है, उसे दूर करना हो तो करें योग

प्राचीन काल से भारत में चलती आ रही प्रक्रिया योग शरीर, मन तथा आत्मा को जोड़ने का काम करती है| योग धर्म, आस्था और अंधविश्वास से अलग है| योग एक सीधा विज्ञान है, यह जीवन जीने की कला है| योग से शरीर को बदलो मन बदलेगा, मन बदलेगा तो बुद्धि बदलेगी, बुद्धि बदलेगी तो आत्मा स्वस्थ हो जाएगी और स्वस्थ आत्मा का ही परमात्मा से मेल हो सकता है|

भारत से शुरू होकर ये प्रक्रिया बहुत देशों में प्रचलित हुई| कई वैज्ञानिकों की खोज से पता चला की योग द्वारा मानसिक और शारीरिक रोगों से मुक्ति पाई जा सकती है| इसी कारण दैनिक जीवन में योग का अधिक महत्व है| योग को “पतंजलि योग सूत्र” भी कहा गया है| योग के व्यवस्थित रूप को पतंजलि द्वारा दर्शया गया| 1 दिसम्बर 2016 को यूनेस्को ने योग को सांस्कृतिक विरासत की उपाधि दी|

आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में व्यक्ति स्वयं को तनाव में फंसा हुआ महसूस करता है| किसी को घर का तनाव है, किसी को आफिस के काम का तनाव है, कोई रिश्तों के तनाव में फंसा है| इन सभी परेशानियों से बचने के लिए लोग तरह-तरह की दवाईयां लेते है परन्तु यह समस्या दूर न होने की वजह से निराश हो जाते है| तनाव आपके स्वास्थ्य के लिए घातक हो सकता है और कई गंभीर बीमारियों को न्यौता दे सकता है या स्वास्थ्य संबंधी खतरा बढ़ा सकता है| गंभीर स्थिति में व्यक्ति आत्महत्या तक कर सकता है| अगर आप इस समस्या को दूर करना चाहते है तो लगातार और नियमित रूप से योग करें|

योग में कुछ ऐसे अभ्यास हैं जिसे अपनाकर आप तनाव मुक्त महसूस कर सकते है जैसे की पश्चिमोत्तानासन, शवासन, सुखासन, बालासन, उर्ध्वोत्तानासन इत्यादि| इन आसनों को प्रतिदिन प्रयोग में लाने से आप अपने मन को शांत कर सकते हो और बहुत से लाभ हो सकते है जैसे कि-

पश्चिमोत्तानासन इस आसन को करने से मन में शांति में शांति आती है जो तनाव को कम करती है और भी बहुत से लाभ मिल सकते है जैसे मोटापा कम होना, त्वचा रोगों से मुक्ति, मांसपेशियों का मजबूत होना|

सुखासन तनाव को दूर करने के लिए सबसे अच्छा अभ्यास है, इस योग में ध्यान लगाया जाता है| इस योग के जरिए आप मानसिक और शारीरिक थकावट को दूर कर सकते हैं, इसके साथ ही यह आसन हमें शांति और आत्मानंद का अनुभव देता है|

शवासन ये आसान आपको उस स्थिति में ले जाएगा जहाँ तनाव नाम की कोई चीज़ न हो|मानसिक और शारीरिक थकावट, सिरदर्द और नींद न आने की समस्या को दूर भगाकर हमें तनाव मुक्त करता है|

बालासन शरीर और दिमाग को शांति देता है, घुटनों और मासपेशियों को स्ट्रेच करता है तथा जकड़न से राहत देता है| इसके अलावा यह शरीर के भीतरी अंगों में लचीलापन लाता है|

ऊपर दिए गए आसनों को सही तरीके से प्रतिदिन करने पर यह हमे बहुत लाभदायक होगा|

आपके कमैंट्स