आखिर कौवे को क्यों अर्पित किया जाता हैं पिण्ड

कौवा एक ऐसा पक्षी है जो की देखने में तो कुरूप होता ही है साथ ही उसकी आवाज़ भी कानों को अप्रिय लगती है| इतनी खामियां होने के बावजूद हमारे वेद पुराणों में कई कथाओं में इस पक्षी का वर्णन है आखिर क्यों यह सवाल आपके जहन में भी ज़रूर कौंधता होगा| शास्त्रों के अनुसार कौवे में कई विलक्षण क्षमताएं होती हैं माना जाता है की कौवा भविष्य में घटने वाली घटनाओं के बारे में पहले ही जान लेता है यानी की उसे भविष्य का पूर्वआभाष हो जाता है|

आज भी सुबह सुबह घर की छत पर या घर के आँगन में जब भी कौवा बोलता है तो माना जाता है की कोई मेहमान आने वाला है| जब हम छोटे थे तो घर के बच्चों में ख़ुशी का माहौल होता था की अगर कोई मेहमान आएगा तो मिठाइयाँ अवश्य लाएगा और हमे मिठाई तो मिलेगी ही साथ ही शैतानी करने पर उस समय माँ की मार से भी बच जायेंगे| सभी कौवों का आँगन या छत पर बैठ कर बोलना किसी के आने का संकेत नहीं देता बल्कि ऐसा कौवा जो की पूरी तरह से काला हो यानी जिसका शरीर उपर से लेकर नीचे तक एक ही वर्ण का हो उसे अशुभ माना जाता है अगर ऐसा कोई कौवा आपके आँगन में बैठ कर बोलता है तो समझ लीजिये की आप पर कोई भारी विपदा आने वाली है|

इतना ही नहीं आपने कभी भी किसी कौवे को बीमार होते हुए या वृद्ध होकर मरते नहीं देखा होगा इनकी मृत्यु आकास्मिक होती है| माना जाता है की कौवे यमराज के दूत होते हैं इसी वजह से यमराज ने इन्हें वरदान दिया था की इनकी मृत्यु आकास्मिक ही होगी ना तो इन्हें कोई बिमारी होगी ना ही इन्हें बुढापा आएगा|

कुछ लोगों का यह भी मानना है की अगर किसी अच्छे मनुष्य की असमय मृत्यु होती है और अगर उसकी आत्मा में क्षमताएं है तो वह कौवे के शारीर में प्रवेश कर विचरण कर सकता है| साथ ही यमराज का दूत होने की वजह से लोग जब अपने पितरो की आत्मा की शान्ति के लिए पिण्ड दान करते हैं तो कौवों के लिए भी अलग से पिण्ड रखे जाते हैं| ऐसा करने के पीछे सबसे बड़ा कारण यह माना जाता है की पिण्ड को खा कर कौवे प्रसन्न हो जायेंगे और पिण्ड दान करने वालों को जाकर उनके बच्चों के कुशलता का समाचार देंगे जिससे की उनके पितरों की आत्मा को शान्ति मिलेगी| माना जाता है की यमराज का दूत होने की वजह से इनके यमलोक में आने जाने पर कोई प्रतिबन्ध नहीं है|

अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो हमें follow करना ना भूलें साथ ही अपने बहुमूल्य सुझाव भी कमेंट के द्वारा बताएं|

आपके कमैंट्स

क्या आपने पढ़ा?

स्वामी विवेकानंद की मृत्यु कैसे हुई – समाधि ... हिंदुस्तान में शायद ही ऐसा कोई होगा जिसे स्वामी विवेकानंद के बारे में ना मालूम हो। स्वामी जी अपनी आध्यात्मिक सोच के लिए पूरे संसार में प्रसिध थे। आज भ...
क्यों भगवान विष्णु आज तक भी चूका रहे हैं कुबेर से ... भगवान विष्णु ने ना केवल कुबेर, जो कि धन के देव हैं, से कर्ज़ लिया अपितु वे आज तक इस कर्ज़ को चूका रहे हैं| आइए जानते हैं इसके पीछे की कहानी :- यह कहा...
हर संकट से मुक्ति दिलाएं ये 10 महाविद्याएं... हर एक को अपने-अपने जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है| इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए व्यक्ति क्या-क्या नहीं करता| अगर मनुष्य इन 10 महाविद...
कैसे शुरू हुई शनि देव पर तेल चढ़ाने की परम्परा... शनि देव की कृपा तथा कहर से कोई अनजान नहीं है। उन्हें न्याय का देवता कहा जाता है। अगर शनि देव हमसे प्रसन्न हैं तो हमारे जीवन में कोई कष्ट नही आ सकता। इ...
तमिलनाडु के प्रसिद्ध मिनाक्षी अम्मन मंदिर के दर्शन... मिनाक्षी अम्मन मंदिर हिन्दू धर्म के इतिहासिक व प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है| यह तमिलनाडु के मदुराई शहर की वैगई नदी के दक्षिण किनारे पर स्थित है। यह म...
loading...