क्या आप जानते है एक ऐसे मंदिर का रहस्य जहां भगवान शिव से पहले पूजा जाता है रावण को

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

भगवान शिव को देवों के देव महादेव कहा जाता है| इनकी पूजा पुरे विश्व में अनेक तरीकों से और बहुत उत्साह के साथ की जाती है| माना जाता है भगवान शिव शंकर बहुत भोले हुआ करते थे इसलिए वे सदैव अपने भक्तों की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें उनकी इच्छा का वरदान देते थे| इसी प्रकार भगवान शिव शंकर ने लंका पति लंकेश्वर रावण को भी उसकी कड़ी तपस्या को देखकर उसे आशीर्वाद दिया|

एक समय की बात है जब लंकापति रावण भगवान शिव शंकर की तपस्या करने के लिए हिमालय के कैलाश पर्वत पर गए| कैलाश पर्वत जिसे भगवान शिव शंकर और माता पार्वती का आवास स्थान माना गया है| रावण ने वहां कई दिनों तक कठिन तपस्या की| रावण की कठिन तपस्या देख भगवान शिव बहुत खुश हो गए और उसे बोलें की मांगों कोई वरदान| यह सुन कर रावण ने शिव जी से कहा की आप मेरे साथ लंका चलो| शिव जी ने उसकी यह इच्छा पूर्ण की और शिवलिंग के रूप में रावण के साथ जाने को त्यार हो गए| परन्तु शंकर जी ने रावण के समक्ष एक बात रखी और वो यह थी कि अगर लंका पहुँचने से पहले रावण ने शिवलिंग को पृथ्वी पर कही भी रखा तो शिवलिंग की स्थापना उसी जगह हो जाएगी| यह बात लंकापति लंकेश्वर द्वारा स्वीकार की गयी और वे कैलाश पर्वत से लंका की ओर चल पड़े| सफर बहुत लम्बा होने के कारण रावण थक गया और थक कर वह पर्वतों और झीलों की नगरी उदयपुर से लगभग 80 किलोमीटर दूर झाडौल तहसील में आवरगढ़ की पहाड़ियों पर रुक गया| और न चाहते हुए भी रावण ने शिवलिंग को धरती पर रख दिया, जिससे वह उसी जगह स्थापित हो गया|

जैसे ही रावण आराम करने के बाद शिवलिंग को उठाने का प्रयत्न करता है, वह उसे उठाने में असमर्थ होता है| तब रावण को भगवान शिव द्वारा कही गई बात का स्मरण हुआ और उसे अपनी गलती का एहसास हुआ| अपनी गलती का पश्चाताप करने हेतु रावण उसी स्थान पर तपस्या करने लग गया| प्रतिदिन वह 100 बार कमल के पुष्पों के साथ भगवान शिव की पूजा किया करता था| तपस्या करते करते रावण को साढ़े बारह वर्ष हो गए| रावण की तपस्या पूरी न हो जाए इसलिए ब्रह्मा जी ने रावण की तपस्या भंग करने के बारे में सोचा| उन्होंने एक दिन रावण की तपस्या के समय एक कमल का फूल कम कर दिया और एक फूल कम होने की वजह से रावण ने अपना एक शीश काटकर भगवान शिव को अग्नि में अर्पण कर दिया| भगवान शिव यह सब देख बहुत प्रसन्न हुए और रावण को वरदान के रूप में उसकी नाभि में अमृत कुंड की स्थापना कर दी|

अब उस स्थान को कमलनाथ महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है| कमलनाथ महादेव मंदिर की विशेषता यह है कि यहाँ भोलेनाथ से पहले लंकापति नरेश रावण की पूजा की जाती है और मान्यता के अनुसार अगर शिव जी की पूजा से पहले रावण की पूजा नहीं की गई तो सारी पूजा व्यर्थ है|

कमलनाथ महादेव मंदिर के दर्शन करने के लिए पहाड़ी के नीचे स्थित शनि देव जी का मंदिर तक अपने वाहन से जाया जा सकता है, आखरी के 2 किलोमीटर पद यात्रा करनी पड़ती है| पुराणों के अनुसार एक बात का पता चला कि भगवान श्री राम ने अपने वनवास का कुछ समय इसी जगह पर भोगा था|

आपके कमैंट्स
loading...