आपको बुरे सपने आते हैं? यह सब करें, यह आपको दुबारा तंग नहीं करेंगे

सपने हमारे जीवन में बहुत खास होते हैं। क्योंकि जो हमें हकीकत में हासिल नही हो पाता, वह सपनों में हमारा होता है। परन्तु यह जरूरी नही की हमें हर बार अच्छे सपने आएं। कई बार हमें बुरे और डरावने सपने भी आते हैं। जैसे हम उठना चाह रहे हैं परन्तु हमारा शरीर हिल भी नही पा रहा। ऐसा लगता है कि कोई हमारा गला दबा रहा है और हम कुछ नही कर पाते।

यदि आप बुरे और डरावने सपनो से परेशान हैं तो यह उपाय अपनाकर देखें।

तनाव मुक्त रहें 

बुरे सपनो का एक कारण तनाव भी होता है। जो लोग बहुत तनाव ग्रस्त होते हैं, उन्हें बुरे सपने आते हैं। यदि आप बुरे और डरावने सपनो से बचे रहना चाहते हैं तो आपके लिए जरूरी है कि आप तनाव मुक्त रहें। सोने से पहले नहा लें। इससे आपको शारीरिक तौर पर आराम मिलने के साथ साथ मानसिक रूप से भी आराम मिलता है।

डरावनी फ़िल्में न देखें 

सोने से पहले डरावनी फ़िल्में या हिसंक विडियो न देखें। इससे शरीर में तनाव का स्तर बढ़ता है ज‌िसका प्रभाव सोने के बाद भी नजर आता है।

 भारी और तला हुआ भोजन न करें 

रात को कभी भारी और तला हुआ भोजन न करें। इससे शरीर में कोर्टिजोल नामक स्ट्रेस हार्मोन का स्तर बढ़ता है और डरावने सपने अधिक आते हैं।

गर्म दूध 

सोने से पहले गर्म दूध लें। इससे नींद अच्छी आती है और तनाव से राहत मिलती है।

मन में न रखें सपने 

कभी कभी हमें एक तरह के सपने आते हैं। ऐसे में नींद खुलने के बाद अपने किसी करीबी को अपने सपने के बारे में बताएं। ऐसा करने से तनाव काम होता है।

नकारात्मक सोच 

पूरा दिन नकारात्मक सोचने वाले लोगों को बुरे सपनों की परेशानी का सामना करना पड़ता है। क्योंकि पूरा दिन गलत सोचने पर रात के समय भी मस्तिष्क में वही बातें चलती रहती हैं और नींद में वह बुरे सपनो का कारण बनती है। इसलिए नकारत्मक सोच से बचें।

आपके कमैंट्स

क्या आपने पढ़ा?

जाने आखिर क्यों अर्जुन दूर नहीं कर पाए ब्राह्मण की... एक बार श्री कृष्ण और अर्जुन भ्रमण पर निकले तो उन्होंने मार्ग में एक निर्धन ब्राहमण को भिक्षा मागते देखा अर्जुन को उस पर दया आ गयी और उन्होंने उस ब्राह...
भगवद गीता (मोक्षसंन्यासयोग- अठारहवाँ अध्याय : श्लो... अथाष्टादशोऽध्यायः- मोक्षसंन्यासयोग (त्याग का विषय) अर्जुन उवाच सन्न्यासस्य महाबाहो तत्त्वमिच्छामि वेदितुम्‌ । त्यागस्य च हृषीकेश पृथक्केशिनिषूदन...
क्यों भगवान विष्णु आज तक भी चूका रहे हैं कुबेर से ... भगवान विष्णु ने ना केवल कुबेर, जो कि धन के देव हैं, से कर्ज़ लिया अपितु वे आज तक इस कर्ज़ को चूका रहे हैं| आइए जानते हैं इसके पीछे की कहानी :- यह कहा...
क्या पिता अपने बच्चों से प्रेम नहीं करते : अगर करत... कुछ शब्द पिता के नाम माँ रोती है, बाप नहीं रो सकता, खुद का पिता मर जाये फ़िर भी नहीं रो सकता, क्योंकि छोटे भाईयों को संभालना है, माँ की मृत्यु हो जा...
इसलिए कहा जाता है भगवान शिव को त्रिपुरारी... भगवान शिव को उनके भक्त अनेक नामों से जानते हैं जैसे शिव शंकर, भोलेनाथ, त्रिपुरारी आदि| भगवान शिव को त्रिपुरारी कहे जाने के पीछे एक कथा है| शिवपुराण मे...
loading...